ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत मुख्य सचिव को पं. शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण वाड्.मय की भेंट

लखनऊ मुख्य सचिव कार्यालय सभागार में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी को गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट की तरफ से गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित 79 खण्डों का 344 वाड.मय साहित्य भेंट किया गया।
 
अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि यह उनके लिए परम सौभाग्य की बात है कि श्रेष्ठ संत शर्मा आचार्य द्वारा लिखित अमूल्य ग्रन्थों को एक साथ दर्शन करने का उन्हें आज अवसर प्राप्त हुआ है। उनके बारे में कुछ कहना सूर्य को दिया दिखाने जैसा है। वह एक महान संत, योगी एवं युग पुरूष थे। वह रचनात्मक ऊर्जा को युग कल्याण में लगाने के लिए निरन्तर कार्य करते रहे। उनके द्वारा रचित साहित्य अमूल्य है। उन्होंने गायत्री ज्ञान मन्दिर के ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत लखनऊ के सभी प्रमुख संस्थाओं एवं पुस्तकालयों को पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित 79 खण्डों का वाड्मय (सेट) निःशुल्क प्रदान करने के लिए गायत्री परिवार की सराहना की।
 
उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार विभिन्न आयोजनों के माध्यम से आचार्य जी के पुनीत महायज्ञ को आगे बढ़ाते रहें। इससे पूर्व वाड्मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानन्द शर्मा ने बताया कि वह अब तक 343 संस्थाओं को उनकी लाइब्रेरी के लिए 79 खण्डों का वाड.मय साहित्य का सेट निःशुल्क उपलब्ध करा चुके हैं। उन्होंने कहा कि संस्था का प्रयास है कि समाज के हर क्षेत्र में नैतिक मूल्यों का विकास हो। कार्यक्रम का शुभारंभ गायत्री मंत्र के वाचन से किया गया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।