सम्मान दिए बिना किसी को सम्मान नहीं मिला करता



प्रत्येक वस्तु अथवा व्यक्ति को सम्मान देने की आदत समाज में दूसरों की नजरों में आपके सम्मान को बढ़ा देती है अगर तिरस्कृतों से, उपेक्षितों से और परित्यक्तों से भी आपके हृदय में प्रेम है तो निश्चित ही ऐसा उदार व्यक्तित्व समाज में पूजनीय बन जाता है। 

जरा भगवान शिव के जीवन को इस दृष्टि से भी एक नजर निहार लेते हैं यहाँ धतूरे को स्थान है यहाँ भाँग और आक जैसै दुर्गंध युक्त वस्तुओं को स्थान तो है ही है साथ में कालकूट विष का को भी स्थान है। 

यहाँ सर्प जैसे जन्मजात जहरीले प्राणी को भी स्थान है तो इतना ही नहीं यहाँ भूत प्रेतों को भी स्थान है जीवन तो ऐसा ही हो जहाँ सबकी स्वीकारोक्ति हो तिरस्कार और उपेक्षा करने से दूरियाँ और बढ़ जाती हैं, परिवार हो चाहे समाज स्वीकार कर लेने से ही सृजन के रास्ते जन्म लेते हैं। 

सबका सम्मान करना सीखो क्योंकि सम्मान दिए बिना किसी को सम्मान नहीं मिला करता प्राणी मात्र से प्रेम और प्राणी मात्र का हित ही शिव बनने का एकमात्र रास्ता है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन