हजारों लोगो से 40 करोड़ रूपयों की ठगी करने वाले शातिर अभियुक्त गिरफ्तार

लखनऊ। एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को  Hello Ride Ltd., Enfinity World Infra Venture Pvt. Ltd  नाम की कम्पनियो मे हजारो लोगो से लगभग 40 करोड़ रूपये इनवेस्ट कराकर ठगी करने वाले बाहुबली ग्रुप व बादशाह ग्रुप के प्रेसीडेंट व रू० 25,000 एवं रू० 15,000/-पुरस्कार घोषित अपराधी देवेश यादव व रामजनक मौर्या को लखनऊ से गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

विगत काफी समय से मल्टीलेवल मार्केटिंग के माध्यम से जनता से अरबो रूपये की ठगी करने वाले संगठित गिरोहो की सचूनाएं प्राप्त हो रही थीं। जिस सम्बन्ध मे साइबर टीम, एस0टी0एफ0 मुख्यालय लखनऊ को अभिसूचना संकलन एवं कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया था। साइबर टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तन्त्र को सक्रिय किया गया। अभिसूचना संकलन के माध्यम से ज्ञात हुआ कि Hello Ride Ltd., Enfinity World Infra Venture Pvt. Ltd नाम की कम्पनियों मे हजारो लोगो से लगभग 40 करोड़ रूपये इन्वेस्ट कराकर ठगी करने वाले बाहुबली ग्रुप व बादशाह ग्रुप के प्रेसीडेंट व रू0 25000/, रू0 15000/-पुरस्कार घोषित अपराधी देवेश यादव व रामजनक मौर्या जो पुलिस से छिप कर रह रहे है, लखनऊ मे मौजूद है।

उपरोक्त सूचना को विकसित करते हुए उप निरीक्षक पंकज सिंह के नूतृत्व मे एस0टी0एफ0 व थाना विभूतिखण्ड पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा मुखबिर खास द्वारा मिली सूचना के आधार पर देवेश यादव व रामजनक मौया उपरोक्त को भरवारा रेलवे क्रासिंग के पास लखनऊ से गिरफ्तार किया गया। पूछताछ मे गिरफ्तार अभियुक्त देवेश यादव ने बताया कि वर्ष 2018 मे मैने Hello Ride Ltd., Enfinity World Infra Venture Pvt. Ltd रियल स्टेट कम्पनी मे सस्ते प्लाट देने के नाम पर किस्त के रूप मे लोगों से रूपया जमा कराना शुरू कर दिया। इस कम्पनी के डायरेक्टर अभय कुशवाहा, नीलम वर्मा, आजम सिद्वीकी व शकील अहमद खान थे। अभय कुशवाहा ने वर्ष 2018 में हीHello Ride Ltd नामक कम्पनी बनायी जिसमे निखिल कुशवाहा, अभय कुशवाहा, नीलम वर्मा, आजम सिद्वीकी डायरेक्टर थे, इसका आफिस साइबरहाइट्स विभूति खण्ड मे आठवे तल पर था, यह कम्पनी बाइक टैक्सी चलाने के नाम पर ग्राहको से 61,000/रूपये जमा करने के बदले प्रति माह 9582 रू 12 माह तक (114984) देने का प्रलोभन देकर रूपये जमा कराती थी।

कम्पनी मे रूपये जमा करने के लिए सात टीमे बनायी गयी थी इनमे लगभग 1500 लोग काम करते थे, जिसका उनको लगभग 15 प्रतिशत कमीशन दिया जाता था। मेरी टीम मे लगभग 200 लोग मेरे नीचे काम करते थे। मैने अपनी टीम के माध्यम से लगभग 500 लोगों से 20 करोड रूपये इन कम्पनियों मे जमा कराये जिसका मुझे लगभग 01 करोड 80 लाख कमीशन आया। वर्तमाान समय मे मै अपनी रियल स्टेट कम्पनी इलाइट विवान प्रा0लि0 बनाकर लोगो से सस्ते प्लाट दिलाने का प्रलोभन देकर रूपये जमा करा रहा था। इसके बाद मैं दिल्ली मे छिपकर रह रहा था आज देवेश से अपने मुकदमें के सम्बन्ध मिलने आया था कि आप लोगो ने गिरफ्तार कर लिया। अन्य वांछित अभियुक्तो की गिरफ्तारी हेतु प्रयास किया जा रहा है। उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना विभूति खण्ड कमिश्नरेट लखनऊ में पंजीकृत मु0अ0स0 173/19 धारा 406/409/420504/506/120बी भा0द0वि0 मु0अ0स0 325/19 धारा 409/420/120 बी भा0द0वि0 मु0अ0स0 319/19 धारा 409/420/120 बी भा0द0वि0 व मु0अ0स0 32/20 धारा 409/420/120 बी भा0द0वि0 में दाखिल कर अग्रेतर कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन