सरकार का 4.5 साल का कार्यकाल रहा उपलब्धियों भरा- सीएम योगी

लखनऊ। रविवार को सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड पेश किया और सरकार की उपलब्धियां गिनाई। उन्होंने लोकभावन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि यह पूरा कार्यकाल अविस्मरणीय रहा है। पहले जब सीएम बनते थे तो हवेली बनाने की प्रतिस्पर्धा चलती थी लेकिन उनकी सरकार जनता के लिए समर्थित रही।

उन्होंने प्रदेश की 24 करोड़ की जनता को हृदय से धन्यवाद दिया।मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब आभारी हैं देश के पीएम नरेंद्र मोदी का जिनके नेतृत्व में सरकार ने अपने साढ़े 4 साल का कार्यकाल पूरा किया है। यूपी आबादी के लिहाज़ से सबसे बड़ा प्रदेश है।सुरक्षा सुशासन में यूपी ने जो उपलब्धियां हासिल की है उसने यूपी के परसेप्शन को देश और दुनिया में बदला है।इसमें सरकार और संगठन का समन्वय और शासन प्रशासन की ज़िम्मेदारी और केंद्रीय नेतृत्व में सहयोग की बड़ी भूमिका है। सभी केंद्रीय मंत्रियों और संगठनात्मक पदाधिकारियों का धन्यवाद। यह अविस्मरणीय कार्यकाल रहा।मुख्यमंत्री ने कहा कि यह वही यूपी है जहां माफिया सत्ता का संरक्षण प्राप्त कर लेते थे।आपने 2012 से 2017 तक देखा होगा हर दिन एक दंगा होता था. लेकिन हमने ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती के साथ कार्यवाई की। 18 करोड़ से ज़्यादा की संपत्ति माफियाओं से ज़ब्त की गयी।


पहले सीएम बनते थे तो अपनी हवेली बनाने के लिए प्रतिस्पर्धा चलती थी। लेकिन हमारी सरकार जनता के लिए समर्पित थी। 42 लाख से ज़्यादा आवास जनता को समर्पित लिए गए। यूपी में कोई आपदा आती थी तो महीनों लग जाते थे। लेकिन मुआवज़ा नही मिलता था। लेकिन अब पीड़ित परिवारों को 24 घंटे के अंदर सहायता दी जाती है. प्रदेश में साढ़े 4 लाख लोगों को पारदर्शी व्यवस्थ के साथ सरकारी नौकरी दी गयी।किसी का चेहरा देखकर या जाति पूछकर नहीं दी गयी। हमारी सरकारी में अभी तक एक दलाली की शिकायत नहीं आयी और एक भी पैसे लेने की शिकायत नहीं आयी। इसका असर ये हुआ कि देश और दुनिया के सभी संस्थान यूपी में निवेश के लिए आ रहे है।पहले ट्रांस्फेट-पोस्टिंग था व्यवसाय मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि 2017 के पहले ट्रांसफ़र और पोस्टिंग एक व्यवसाय था, बोली लगायी जाती थी, लेकिन पिछले साढ़े 4 साल में कोई ये आरोप नहीं लगा सकता कि पोस्टिंग के लिए पैसा लिया गया है लेकिन स्थिरता ने टीम वर्क का एहसास कराया।

पीएम मोदी ने कहा था यूपी पहले विकास के लिए अवरुद्ध के तौर पर जाना जाता था। अब यूपी 44 केंद्रीय योजनाओं में नम्बर वन है। प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना, मुफ़्त राशन वितरित किया गया। 15 करोड़ लोगों को हमने केंद्र के सहयोग से निशुल्क राशन उपलब्ध करवाया। 2005 -2006 में खाद्यान घोटाला हुआ था उसकी जांच आज तक चल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम जब सरकार में आए तो लोगों भूख से मर रहे थे। क्योंकि राशन कार्ड बने नहीं थे और जो बने थे निरस्त हो चुके थे। लेकिन हमने टेक्नोलोजी का साथ लिया और सबके कार्ड बनवाए। कोटे को ई-पाश मशीन से  जोड़ा। टेक्नोलोजी का फ़ायदा मिला। इससे सरकार को 1200 करोड़ की बचत हो रही है। हमने 1 लाख 43000 करोड़ गन्ना मूल्य का भुगतान किया। धान ख़रीद में 2020 क़ोरोना काल के बावजूद हमने 66 लाख मेट्री टन धान सीधे किसानों से ख़रीदा गया।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन