भ्रष्टाचार से शामिल 470 लोक सेवकों के विरूद्ध सतर्कता अधिष्ठान द्वारा न्यायालय में आरोप-पत्र दाखिल

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर भ्रष्टाचार के विरूद्ध जीरो टाॅलरेंस की नीति पर कार्यवाही करते हुए सतर्कता अधिष्ठान द्वारा उल्लेखनीय उपलब्धियां प्राप्त की गयी हैं। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में अब तक सतर्कता अधिष्ठान द्वारा भ्रष्टाचार से संबंधित 207 मामलों में 470 लोक सेवको के विरूद्ध मा0 न्यायालय में आरोप-पत्र दाखिल किये गये है।
 
उल्लेखनीय है कि सतर्कता अधिष्ठान द्वारा भ्रष्टाचार से संबंधित 142 मामलों में विभागीय कार्यवाही, 202 में अभियोजन, 10 प्रकरणों में लघु दण्ड/वृहद दण्ड तथा 07 प्रकरणों में क्षति वसूली संबंधी कार्यवाही की गयी है। अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश कुमार अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुये आज यहाॅ बताया कि शासन द्वारा सतर्कता अधिष्ठान की कार्य प्रणाली को और अधिक चुस्त-दुरूस्त बनाये जाने के उद्देश्य से दस सेक्टरों क्रमशः लखनऊ, मेरठ, बरेली, आगरा, अयोध्या, गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज, झाॅसी व कानपुर में सतर्कता अधिष्ठान के थाने भी खोले गये हैं।
 
सर्तकता अधिष्ठान मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार सतर्कता अधिष्ठान को शासन द्वारा लगभग साढ़े चार वर्ष की अवधि में 1156 जाॅचें आदेशित की गयी। इनमें से 267 अन्वेषण, 497 खुली जाॅच, 168 गोपनीय जाॅच, 169 प्रकरणों में गोइन्ट(अभिसूचना संकलन) तथा 55 मामलों में ट्रैप की कार्यवाही की गयी। इस अवधि में हुई जाँच के तहत 322 मामलों में आरोप सिद्ध न होने के कारण उन्हे समाप्त किया गया है। उक्त अवधि में सतर्कता अधिष्ठान द्वारा निर्णीत मामलों की कुल संख्या-110 रही, जिनमें से 40 मामलों में सजा की कार्यवाही की गयी है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन