निवेदन और अर्पण यह दोनों दान नहीं कहलाते

 
जीव प्रभु का अंश है, अंश को अंशी की सेवा करनी चाहियेजीव को सभी वस्तु प्रभु को समर्पित कर प्रसादी के रूप में उपयोग में लेना चाहिए। निवेदन, दान और अर्पण इन तीनो शब्दों का अर्थ लगभग लगभग एक है फिर भी तीनों में भिन्नता हैकिसी वस्तु को प्रभु का नाम लेकर कि यह वस्तु आपकी है, यह प्रभु को बताना निवेदन है।
 
धन तथा दूसरे पदार्थों का विधिपूर्वक स्वयं की सत्ता छोड़कर दूसरों को देना दान कहलाता हैस्वामी को भोग लगाने योग्य प्रथम निवेदन की हुई वस्तु स्वामी को अर्पण करना उसे समर्पण कहा जाता हैदान की हुई वस्तु स्वयं के काम में नहीं आवे परंतु निवेदन की हुई वस्तु स्वामी के अर्पण के बाद प्रभु की प्रसादी सेवक के उपयोग में आती है निवेदन और अर्पण यह दोनों दान नहीं कहलाते हैं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन