सच्चा विवेक वही जो बुद्धि में सद्विचारों का संग्रह करे


इस संसार रूपी समुद्र में हमारा मानव शरीर एक नाव की तरह है लेकिन हमने अपने अंदर दुर्विचारों को इतना अधिक भर लिया है कि जिसका वजन हमारे ऊपर है। इस संसार मे जल भी ज्यादा है और नाव से ज्यादा दुर्विचारों का वजन है तो क्या होगा नाव के अंदर भी जल ही भर जायेगा।
 
इतने दुर्विचारों का वजन हम लेकर चल रहे हैं। सच्चा विवेक वही जो बुद्धि में सद्विचारों का संग्रह करे। इस बुद्धि को हमें प्रभु के रंग में रंगना है। प्रभुमय बनाना है, वैष्णव बनाना है, भगवदीय बनाना है इसीलिए हरि ही सब है जब हमारी बुद्धि में भगवान ही होंगे तो स्वतः वह भगवदीय बन जायेगी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन