छात्रवृत्ति से लंदन जा सकेंगे लविवि विधि संकाय के छात्र


लखनऊ। डॉक्टर सुनील कुमार सिंह सिविल जज सीनियर डिवीज़न ललितपुर के मुताबिक लखनऊ विश्वविद्यालय के नवीन परिसर स्थित विधि संकाय की मूट कोर्ट कमेटी द्वारा “ प्रोग्राम ऑन करियर अपॉर्चुनिटी एंड स्कोप ऑफ लीगल फील्ड:इंटरनेशनल एंड इंडियन पर्सपेक्टिव" पर सेमिनार आयोजित किया गया, कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि यूनाइटेड किंगडम मे सॉलीसीटर एडवोकेट (हायर राइट), डायरेक्टर टवीनवुड ला प्रैक्टिस एवं भारतीय सर्वोच्च न्यायालय एवं उच्च न्यायालयों में एडवोकेट, हरजोत सिंह उपस्थित रहे।

गेस्ट ऑफ ऑनर विवेक कुमार राय, एडवोकेट इलाहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बेंच एवं विशिष्ट अतिथि इलाहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बेंच के एडवोकेट अजय द्विवेदी भी मौजूद रहे। लखनऊ विश्वविद्यालय की प्रोफेसर एवं मूट कोर्ट कमेटी की शिक्षिका संचालिका डॉ विनीता काचर द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया । उन्होंने विधि क्षेत्र में छात्रों को सदा सक्रिय रहने की सीख दी। इसके पश्चात विधि संकाय के संकाय अध्यक्ष एवं विभाग अध्यक्ष प्रोफ़ेसर सी पी सिंह ने खेतों में लहराती हुई फसलों का उदाहरण देकर बताया कि जिस प्रकार किसान को अपनी फसल देखकर प्रसन्नता होती है आज उसी प्रकार की खुशी अपने छात्र हरजोत सिंह की सफलता को देखकर महसूस हो रही है। उन्होंने बताया की हरजोत सिंह सदा से ही एक होनहार छात्र रहे हैं और विश्वविद्यालय में मूट कोर्ट करने की शुरुआत उन्होंने ही की। वह सदा विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहते थे और बहुत ही विनम्र व्यक्तित्व के स्वामी हैं।उन्होंने यह भी बताया कि लखनऊ विश्वविद्यालय देश का प्रथम विश्वविद्यालय है जिसने नवीन शिक्षा प्रणाली को अपने पाठ्यक्रम में शामिल किया।

सेमिनार के मुख्य अतिथि हरजोत सिंह ने अपने संबोधन को शुरू करते ही सर्वप्रथम अपने गुरुओं को नमन किया और अपनी सारी सफलताओं का श्रेय शिक्षकों को दिया। उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय को अपना परिवार बताया और कहा कि यहां का प्रत्येक छात्र उनके इस परिवार का ही सदस्य है । साथ ही प्रतिवर्ष 2 छात्रों को अंतरराष्ट्रीय छात्रवृत्ति देकर लंदन बुलाने की घोषणा कि जिससे यहां का छात्र अपने व्यक्तित्व में विकास कर अपने जीवन को एक नए आयाम पर ले जाने में सक्षम बन सकेगा। उनकी इस घोषणा से भवन करतल ध्वनियों से गूंज उठा। विश्वविद्यालय में सुप्रीम कोर्ट , हाई कोर्ट एवं कॉरपोरेट इंटर्नशिप सेल बनाने की भी बात कही। उन्होंने छात्रों को विधिक क्षेत्र में प्रोफेशनल रहने की प्रेरणा दी और कहा कि अपने आप को किसी प्रोफेशनल से कम मत समझो। साथ ही बताया कि यदि कोई छात्र विदेश से एल एल एम करने की इच्छा रखता है तो तत्पश्चात उसे वहीं पर बार की विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में भी उत्तीर्ण हो अपने भविष्य को एक नवीन आयाम प्रदान करना चाहिए।सेमिनार का संचालन साम्या गौतम द्वारा किया गया एवं आभार अमृत सिंह द्वारा व्यक्त किया गया।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन