श्राद्ध पक्ष में पितरों को पुष्पांजलि


पितर चरण में नतमस्तक रहते हम दिन रात ।
कृपा दृष्टि हम पर करो, सिर पर धर दो हाथ ॥

यह कुटुम्ब है आपका, आप ही का परिवार ।
आशिर्वाद मिले आपका , कि फूले फले संसार ॥

भूल - चूक सब क्षमा कर,करो दया  भरपूर ।
सुख सम्पति से घर भरो,कष्ट करो सब दूर ॥

ध्यान धरें नित आपका,आपकी हम संतान ।
आपके नाम से ही जुड़ी,मेरी हर पहचान ॥

ऋण आपका है हम पर,नहीं चुकाया जाय ।
सात जनम भी कम पड़े,ये वेद पुराण बताय ॥

हर दिन हर पल आपसे,माँगे हम वरदान ।
वंश बेलि बढती रहे,बढ़े मान सम्मान ॥

पन्द्रह दिन इस पक्ष में,करेंगें हम सत्कार!
पूरे वरस वरसे कृपा, इतनी अरज हमार !!

तिल-कुश-जल ,भोजन मिष्ठान,अर्पित करते हम!
देव-गुरू- सब पितर मिल, हरें हमारे गम!!


समस्त पितरों को नमन!

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर