पहले ट्रांसफर और पोस्टिंग में लगती थी बोली- मुख्यमंत्री

लखनऊ। प्रदेश सरकार के साढ़े चार साल पूरे होने पर रविवार को सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड पेश किया। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया। उन्होंने कहा कि, 2017 के पहले ट्रांसफर और पोस्टिंग एक व्यवसाय था।बोली लगायी जाती थी लेकिन पिछले साढ़े 4 साल में कोई ये आरोप नहीं लगा सकता कि पोस्टिंग के लिए पैसा लिया गया है लेकिन स्थिरता ने टीम वर्क का एहसास कराया।

योगी ने कहा कि केंद्र से हमें लगातार सहयोग मिला जिससे हमने सभी योजनाओं को अच्छी तरह से लागू किया। सीएम योगी ने कहा कि पहले की सरकारों के कार्यकाल में यूपी की क्या दशा थी। यह किसी से छिपी नहीं थी। सीएम योगी ने कहा कि पहले सरकारी योजना का हाल क्या होता था। यह सभी जानते हैं। हमारी सरकार ने सभी वर्गों तक पूरी इमानदारी के साथ सरकारी योजनाओं को पहुंचाया।आपदा के वक्त सरकार ने हर स्तर पर लोगों को सहायता पहुंचाई।उन्होंने कहा कि यूपी में पहले हर तीसरे चौथे दिन दंगा हुआ करता था लेकिन हमारी सरकार ने प्रदेश को दंगामुक्त बनाया।वहीं उन्होंने कहा कि हमने माफिया और अपराधियों पर कानून की दायरे में कार्रवाई की। सीएम योगी ने कहा कि हमने 1800 करोड़ की सरकारी संपति जब्त की और अवैध निर्माण पर कार्रावाई की।

सीएम योगी ने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था ऐसी थी कि निवेश नहीं था और इज ऑफ डुइंग के मामले में प्रदेश का 14वां स्थान था।लेकिन हमारी सरकार ने कानून-व्यवस्था में सुधार करते हुए यूपी में पहले इन्वेस्टर समिट का आयोजन किया गया और खास बात ये है कि अब देश और दुनिया का उद्योगपति प्रदेश में निवेश का इच्छुक है। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि यूपी में 3 लाख करोड़ का निवेश हुआ है।उन्होंने कहा कि यूपी अब इज ऑफ डुइंग में दूसरे स्थान पर आ गया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि ये वही यूपी है जहां माफिया सत्ता का संरक्षण प्राप्त कर लेते थे।आपने 2012 से 2017 तक देखा होगा हर दिन एक दंगा होता था। लेकिन हमने ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती के साथ कार्यवाई की। 18 करोड़ से ज़्यादा की संपत्ति माफियाओं से ज़ब्त की गयी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन