क्षणभंगुर है जीवन और पल-पल बीत रही है आयु

जीवन क्षणभंगुर है पल पल आयु बीत रही है, हर श्वास के साथ आयु कम हो रही है एक एक पल बहुत अनमोल है। आयुष का नीर है और तन अंजलि हैहर श्वास पर तन की अंजलि से आयुष का पानी टपक रहा है जिस वक्त अंजलि में पानी भरते हैं
 
उसी समय से पानी टपकने लगता है और अंजलि खाली होने लगती है। शरीर रूपी अंजलि में आयुषरूपी पानी भरा हुआ है, लेकिन जैसे ही जन्म हुआ, पहला श्वास लेना शुरू किया तभी से आयुषरूपी पानी टपकना शुरू हुआ अंजलि खाली हो रही हैअतः अपनी आयु को व्यर्थ मत गंवाओं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन