श्री गुरूग्रन्थ साहिब जी महाराज के प्रकाश पर्व पर सजा दीवान

लखनऊ। शाम का समागम रहिरास साहिब पाठ के साथ 6:30 बजे प्रारंभ हुआ जिसमें सिमरन साधना परिवार के बच्चों ने 7:30 बजे से लेकर 8:30 बजे तक गुरबाणी शबद कीर्तन गायन किया उसके बाद 8:30 बजे से लेकर 10:00 बजे तक विशेष तौर पर दिल्ली से पधारे रागी जत्था भाई दिलेर सिंह ने गुरबाणी का रसमयी कीर्तन करते हुए शबद"_

सब सिक्खन को हुकम है गुरु मान्यो ग्रंथ,

गुरु ग्रंथ जी मानयो प्रगट गुरां की देह"

तब सभी उपस्थित श्रद्धालुओं ने भक्ति भाव से उनके साथ इस भजन को गाया और बहुत आनंद का अनुभव किया। लखनऊ गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष सरदार राजेंद्र सिंह बग्गा ने इस अवसर पर सभी को बधाई देते हुए अपील की कि हम सबको गुरु महाराज की शिक्षाओं के ऊपर चलकर मानवता के भले के लिए काम करना है और प्रभु का सिमरन करते हुए प्रभु की प्राप्ति का पूरे जीवन में प्रयास करते रहना है, यही गुरु महाराज का उपदेश है।


समागम की समाप्ति के बाद गुरु का लंगर संगतों में वितरित किया गया। कार्यक्रम का संचालन सतपाल सिंह मीत ने किया और बताया कि 07 सितंबर का मुख्य समागम प्रातः 5:00 बजे से गुरबाणी के अमृत मई कीर्तन से प्रारंभ होगा और दोपहर 12:00 बजे तक चलेगा और गुरु महाराज का लंगर वितरित किया जाएगा।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन