आज़ादी की कहानी पुस्तकों की जुबानी


गौरवमयी स्वाधीनता आंदोलन के 75 वें वर्ष के उपलक्ष में "आजादी का अमृत महोत्सव" तथा स्वाधीनता आंदोलन की जनक्रांति चौरी चौरा आंदोलन के 100वें वर्ष में प्रवेश के उपलक्ष्य में "चौरा चौरी शताब्दी महोत्सव" के आयोजनों के अंतर्गत, केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के प्रकाशन विभाग द्वारा अपने इस विक्रय केंद्र (Hall No.1, 2nd Floor, Kendriya Bhawan, Aliganj) पर "आजादी की कहानी-पुस्तकों की जुबानी" विषय पर एक परिचर्चा का आयोजन 2 सितंबर 2021 को 11:00 बजे से 1:00 बजे तक किया जा रहा है।

इस अवसर पर स्वाधीनता आंदोलन विषय पर केंद्रित पुस्तकों की प्रदर्शनी भी आयोजित की जाएगी, जिसमें प्रकाशन विभाग द्वारा प्रकाशित स्वाधीनता आंदोलन के गौरवमयी इतिहास से संबंधित पुस्तकों को प्रमुखता से प्रदर्शित किया जाएगा साथ ही राष्ट्रीय महत्व के विभिन्न विषयों की पुस्तकों को प्रमुखता से प्रदर्शित किया जाएगा और पत्रिकाओं को प्रदर्शित किया जाएगा। स्वाधीनता आंदोलन के नायक और आधुनिक भारत के निर्माता महापुरुषों की प्रेरणादायी जीवनिया, नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जीवन और कार्यों पर आधारित नेताजी संपूर्ण वांग्मय, 12 खंडों में, गांधीजी के जीवन और कार्यों कार्यों पर आधारित, 100 खंडों में, कलेक्टेड वर्क्स आफ महात्मा गांधी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तथा उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के भाषण संग्रह तथा राष्ट्रपति भवन पर प्रकाशनों की श्रंखला के साथ-साथ देश के गौरवशाली इतिहास, कला और संस्कृति को रेखांकित करने वाली पुस्तकें, बच्चों के चरित्र निर्माण में सहायक, पौराणिक संस्कृति का बोध कराने के साथ-साथ उनमें वैज्ञानिक दृष्टिकोण विकसित करने वाली बाल पुस्तकें प्रदर्शित की जाएंगी।

मासिक पत्रिकाओं में समग्र विकास पर केंद्रित हिंदी व अंग्रेजी में "योजना", ग्रामीण विकास पर केंद्रित हिंदी व अंग्रेजी में "कुरुक्षेत्र" साहित्य और संस्कृति पर केंद्रित हिंदी व उर्दू में "आजकल" तथा हिंदी में बालभारती भी प्रदर्शित की जाएगी। पुस्तकों की खरीद पर 25% से 45% तक की छूट दी जाएगी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन