पाप करो या पुण्य बंधन तो दोनों में ही है

जब तक जीवन है तब तक कर्म करना पड़ेगा क्योंकि एक क्षण भी देहधारी कर्म किये बिना नहीं रह सकताप्रकृति के गुणों के वशीभूत होकर कर्म करना ही पड़ेगा। कर्म से छूट नहीं सकते कर्म तो करना ही है जरूरत है तो कर्म के बंधन से छूटने की हैचाहे पाप करो या पुण्य बंधन तो दोनों में ही है

पाप यदि लोहे की जंजीर का बंधन है तो पुण्य सोने की जंजीर का बंधन। कर्म के बंधन से छूटना है तो कर्म को यज्ञ बनाओ क्योंकि यज्ञ के सिवा जितने भी बन्धन है, वे सभी मनुष्य को बाँधते हैं गीता में भी भगवान ने कहा है कि तू कर्म को यज्ञ बना।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन