राज्य कर्मियों को वेतन के लाले, आत्महत्या को विवश कर्मचारी- कृष्णकांत पाण्डेय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता कृष्णकांत पांडेय ने राज्य की भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार पूरी तरह झूठ बोलकर गुमराह करने पर आमादा है, विज्ञापनों से लेकर सोशल मीडिया तक झूठ की लीला चल रही है, सबसे उभरती अर्थ व्यवस्था बताने वाली योगी सरकार राज्य के 4 लाख से अधिक शिक्षकों व अन्य कर्मियों के वेतन भुगतान में असमर्थ है।
 
प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पांडेय ने कहा कि धर्म को आगे रखकर अपनी विफलताओं को छिपाने का हर समय जतन करने वाली भाजपा की योगी सरकार बताये की करवा चौथ व दीपावली जैसे पर्व कैसे मनाएंगे। उन्होंनें कहा कि स्थितियां कितनी विकराल होती जा रहीं हैं कि मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर में स्वास्थ्य विभाग में संविदा कर्मी नर्स को 07 माह से वेतन न मिलने के कारण आत्महत्या को विवश होना पड़ा है, आखिर सब कुछ अच्छा है तो मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर में महिला संविदा कर्मी को क्यों आत्महत्या के लिये मजबूर होना पड़ा, यह दुखद स्थितियां योगी राज में किसके कारण उत्पन्न हो रही है? यह सवाल आज उत्तर प्रदेश पूंछ रहा है कि आखिर कब तक लोगो को गुमराह करने का काम किया जाएगा और लोग आत्महत्या करते रहेंगे।

पाण्डेय ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास एवं शौचालय निर्माण में भ्रष्टाचार की नदी बह रही है, जिन 44 योजनाओं के लाभ सीधे पहुंचाने की बात बताई जा रही है उनका भौतिक सत्यापन व जमीनी हकीकत की तस्वीर भयावह है। सरकार को यह अवश्य बताना चाहिए  कि हत्या, अपराध, दुष्कर्म के मामले में उत्तर प्रदेश योगी राज में कैसे पहले स्थान पर पहुंच गया। देश का आधा कुपोषण केवल उत्तर प्रदेश में है। पाण्डेय ने आगे कहा कि किसान को तबाह करने उनके साथ अन्याय पर उतारू भाजपा की केन्द्र व राज्य सरकारों का निर्मम व क्रूर व्यवहार मर्यादा की सीमा लांघ रहा है। किसान आंदोलन के तहत किसानों के रेल रोकने पर मुख्यमंत्री योगी द्वारा कड़ा कदम उठाने की बात तानाशाही का द्योतक है तथा लोकतंत्र की हत्या का प्रयास है।

पाण्डेय ने कहा कि जहां पूरा प्रदेश ऐसा लगता है कि अपराधियों के हाथों गिरवी हो गया है, शाहजहांपुर में दिन दहाड़े कोर्ट परिसर में एक अधिवक्ता की गोली मारकर हत्या कर फरार हो जाना, सरकार को पुनः कटघरे में खड़ा करता है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पांडेय ने कहा कि किसान, बेरोजगार नौजवान, महिलाएं और बेटियों का उत्पीड़न हो या कुपोषण या सरकारी योजनाओं में संगठित भ्रष्टाचार, योगी सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। उन्होंनें कहा कि झूठ व अहंकार में मदमस्त यह सरकार सिर्फ सब कुछ ठीक का ढोल बजाती है, जबकि भाजपा सरकार में सब कुछ ध्वस्त हो चुका है। झूठे व मिथ्या आंकड़ों के विज्ञापन से जमीनी सच को नही छिपाया जा सकता है। उन्होने राज्य की योगी सरकार से मांग करते हुए कहा शिक्षकां अन्य विभागों के कर्मियों के वेतन का तत्काल भुगतान करने के साथ महिला संविदा नर्स के नाबालिग बच्चे के भरण पोषण व शिक्षा की व्यवस्था के साथ भविष्य के लिये एकमुश्त रकम सहायता के रूप में दी जाए।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर