दलित, वंचित और पिछड़ों को केजरीवाल सराकर से सबसे ज्यादा फायदा- संजय सिंह

लखनऊ। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद और यूपी प्रभारी ने शनिवार को पार्टी के प्रदेश कार्यालय पर आयोजित एक पत्रकार वार्ता में बसपा सुप्रीमो मायावती के बयान पर आईना दिखाते हुए उनको करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी की आलोचना करने के बजाए मायावती को दिल्ली की झुग्गियों में जाकर केजरीवाल सरकार के अच्छे कामों को देखना चाहिए। केजरीवाल सरकार दिल्ली में बाबा साहब के सपनों को साकार कर रही है। उसके हर अच्छे कामों से समाज के शोषित, दलित और वंचित तबके को है सबसे ज्यादा फायदा हो रहा है।

बसपा के संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर आयोजित लखनऊ की रैली में मायावती ने आम आदमी पार्टी का जिक्र करते हुए कहा कि उसने दिल्ली में ठीक काम नहीं किया और अब यूपी में विधानसभा चुनाव लड़ने आ गई है। मायावती के इस बयान पर तुरंत पलटवार करते हुए संजय सिंह ने पहले तो कांशीराम को श्रद्धांजलि दी और उन्हें जीवन भर शोषित, दलित और वंचितों के लिए संघर्ष करने वाला बताया। संजय सिंह ने मायावती को सुझाव दिया कि वह दिल्ली की झुग्गियों और अनऑथराइज्ड कालोनियों में जाकर केजरीवाल सरकार के कामों को देखें, उसका अध्ययन करें। फिर आम आदमी पार्टी के विषय में कुछ कहें। आप नेता संजय सिंह ने कहा कि दिल्ली सरकार देश की पहली सरकार है जिसने सरकारी स्कूलों में बाबा साहब के संविधान को पढ़ाने का फैसला लिया।संजय सिंह ने कहा कि फ्री बिजली और पानी तथा माताओं-बहनों के लिए की बस यात्रा की मुफ्त सुविधा दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने ही दिया है।

इसका सर्वाधिक लाभ दिल्ली के दलितों, पिछड़ों और गरीबों को मिल रहा है। उन्होंने दिल्ली के सरकारी स्कूलों का जिक्र करते हुए कहा कि पहले जिन स्कूलों में बच्चों को टाट पट्टी पर बैठना पड़ता था, टॉयलेट तक नहीं थे। आज उन स्कूलों में एसी है, स्विमिंग पूल और खेल के मैदान बन गए हैं। सरकार ने विश्वस्तरीय शिक्षा व्यवस्था दी है तो इसका सबसे ज्यादा लाभ समाज के वंचित वर्ग को ही मिला है। संजय सिंह ने कहा कि ठीक इसी तरह योगी आदित्यनाथ भी कह रहे थे कि कोरोना काल में दिल्ली सरकार ने कुछ नहीं किया। जबकि मोदी सरकार ऑक्सीजन तक उपलब्ध नहीं करा रही थी तो दिल्ली सरकार सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाई कोर्ट तक दिल्ली के नागरिकों के लिए ऑक्सीजन की लड़ाई लड़ रही थी। यही कारण भाजपा झूठ का सहारा लेना पड़ा। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने कोरोना का हाल में एशिया का सबसे बड़ा अस्पताल छतरपुर में बनवाया। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता दिन-रात जनता की सेवा में जुटे रहे। कोरोना काल में दिल्ली सरकार के कल्याणकारी कामों के बावजूद हमने मुनाफे का बजट पेश किया। माया और योगी एक ही भाषा बोल रहे हैं।

योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि हम पर सवाल उठाया जाता है कि हमने अयोध्या से अपने कार्यक्रम की शुरुआत क्यों की। प्रभु श्री राम पर भाजपा का पेटेंट है क्या? पहले भाजपा को चंदा चोरी और जमीन खरीद में हुए घोटाले का जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि बसपा और भाजपा एक ही भाषा बोल रही हैं। दोनों पार्टियां उत्तर प्रदेश में आम आदमी पार्टी के बढ़ते विस्तार से घबरा गई हैं। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के बाबत पूछे गए सवाल पर संजय सिंह ने प्रति प्रश्न किया कि इससे पहले हत्या का कोई अभियुक्त टीवी पर इंटरव्यू देते देखा गया था क्या? धारा 302 के किसी आरोपी को पुलिस बयान देने के लिए बुलाती है या गिरफ्तार करती है? कहा, देखना होगा कि योगी आदित्यनाथ की पुलिस सिर्फ पूछताछ की औपचारिकता निभा रही है या मंत्री के हत्यारे बेटे की गिरफ्तारी भी करती है। उन्होंने कहा कि देश का गृह राज्य मंत्री किसानों को धमकी देता है, उसका बेटा किसानों को रौंद देता है और आज भी वह मंत्री किसानों को उपद्रवी बताता फिर रहा है। जब किसानों की निर्मम हत्या पर पूरा देश दुखी और रोष में है तब देश के एक मंत्री का ऐसा बयान शर्मनाक है।

नवजोत सिंह सिद्धू के अनशन पर चुटकी लेते हुए संजय सिंह ने कहा कि जब जांच शुरू होने का ऐलान हो गया तब सिद्धू यह कह कर अनशन पर बैठ गए कि जब तक जांच शुरू नहीं हो जाती तब तक मैं अनशन करूंगा। यह हास्यास्पद है। आम आदमी पार्टी द्वारा यूपी की जनता को 300 मिनट फ्री बिजली, किसानों को मुफ्त बिजली और बकाया बिजली बिल माफ करने की घोषणा से योगी आदित्यनाथ सहित अन्य प्रमुख दल घबराए हुए हैं। इसीलिए वह आम आदमी पार्टी को लेकर लगातार हमलावर हैं। योगी के बाद बसपा सुप्रीमो का बयान यह बताता है कि उत्तर प्रदेश में आम आदमी पार्टी की बढ़ती लोकप्रियता से वे घबरा गए हैं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन