नैमिषारण्य के विकास कार्यो को लेकर बैठक संपन्न

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सनातन धर्म के सभी तीर्थ स्थलों के समग्र विकास के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री की मंशा को कार्यरूप देते हुए बेहद महत्वपूर्ण समझें जाने वाले तीर्थ स्थल नैमिषारण्य में विकास कार्यों को तीव्रता प्रदान करने के लिए आज मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित हुई।
 
मुख्य सचिव ने अपने संबोधन में नैमिषारण्य को भव्य बनाने तथा अन्य सभी पर्यटन सुविधाओं जैसे कि यात्री शेड, पेयजल, ट्वायलेट्स आदि को विकसित करने हेतु मास्टर प्लान शीघ्र तैयार करने पर जोर दिया। उन्होंने तीर्थ स्थल की महत्वा को रेखांकित करते हुए चक्रतीर्थ, दधीचि कुंड, व्यास गद्दी, हनुमान गढ़ी आदि के निकट सभी प्रकार की पर्यटन सुविधाओं को विकसित करने हेतु आवश्यक तैयारियां समय से सुनिश्चित कराने के लिए दिशा निर्देश दिया। सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह थी कि उन्होंने मास्टर प्लान तैयार करते समय स्थानीय लोगों के सुझाव पर भी ध्यान देने के लिए कहा।
 
मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने नैमिषारण्य स्थित राजघाट को विकसित करने के साथ योग एवं अन्य गतिविधियां को आयोजित करने हेतु मण्डप हाल का निर्माण कराने के लिए कहा। इसके अलावा उन्होंने कहा कि नैमिषारण्य में वैदिक म्यूजियम का निर्माण कराने हेतु आवश्यक तैयारियां शीघ्र ही पूर्ण कर लिया जाये। उन्होंने चक्रतीर्थ को कॉरीडोर के रूप में विकसित करने तथा सीतापुर के अन्य प्रमुख स्थानों को चिन्हित कर साइनेज़ लगवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि दधीचि कुण्ड की विशेषता को दृष्टिगत रखते हुए कुण्ड के जल को स्वच्छ रखने हेतु समुचित प्रबंध किये जायें तथा उचित ड्रेनेज सिस्टम को भी विकसित किया जाये।
 
इस बेहद महत्त्वपूर्ण बैठक में प्रमुख सचिव पर्यटन: मुकेश मेश्राम, मण्डलायुक्त, लखनऊ: रंजन कुमार एवं वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से जिलाधिकारी सीतापुर विशाल भारद्वाज सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

प्रस्तुति : नैमिष प्रताप सिंह

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर