’रामद्रोही कभी हितैषी नहीं हो सकते’ - मुख्यमंत्री


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा, बसपा और कांग्रेस को हिन्दू विरोधी बताते हुए कहा कि इन दलों ने हिन्दू आस्था के साथ खिलवाड़ किया। हिंदू आस्था के केंद्र सेतु बंध को प्रभावित करने की कोशिश की गयी, जिसे भगवान विश्वकर्मा के पुत्र नल और नील ने भगवान श्रीराम को श्रीलंका जाने को तैयार किया था। सपा का नाम लिये बिना 2012 से 2017 तक रही प्रदेश सरकार को जीवंत कलयुगी अवतार बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दुओं के त्योहार से पहले दंगे होते थे। हिन्दू अपना कोई पर्व मना ही नहीं पाता था। आज प्रदेश दंगे से मुक्त है। हर कोई अपना पर्व व त्योहार मना सकता है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को अलीगंज स्थित पंचायत भवन में पिछड़ा मोर्चा द्वारा आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर सांसद रामचंद्र, पिछड़ा मोर्चा के उपाध्यक्ष कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा, संतराज विश्वकर्मा आदि मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले की सरकार अपने परिवार को ही प्रदेश मानती थी। वर्ष 2012 से 2017 तक चाचा, भतीजा, नाना, मामा सहित पूरा खानदान लूट-खसोट में लगा था। कोई किसी को धक्का मार देता था। सभी रिश्तों ने महाभारत की याद दिला दी थी। पूरा खानदान महाभारत का जीवंत कलयुगी अवतार था। उनके शासन में कोई ऐसा जिला नहीं बचा था, जहाँ दंगे नहीं होते थे। यह दंगे हिन्दुओं के पर्व होली, दिवाली, रक्षाबंधन, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि, विजयादशमी और रामनवमी के पहले ही होते थे। हिन्दू अपना त्योहार ही नहीं मना पाते थे। दूसरी तरफ वे बड़ी बेशर्मी से गोल-टोपी पहनकर प्रदेश की जनता को अपमानित करते थे । 

सपा ने 2004 में कांग्रेस के नेतृत्व में बनी यूपीए सरकार को बिना मांगे इसी मंशा से समर्थन दिया ताकि कांग्रेस के कंधे पर बंदूक रखकर हिन्दू आस्था को आहत कर सके। सपा, बसपा और कांग्रेस ने 2005 में राम बंध को तोड़ने के लिए ऐड़ी चोटी का जोर लगा कर न केवल हिन्दू आस्था का अपमान किया अपितु सामाजिक तानाबाना छिन्न-भिन्न कर विकास को अवरुद्ध किया। भ्रष्टाचार और अराजकता को बढ़ावा देते रहे। युवाओं के समक्ष पहचान का संकट था। योग्यता के आधार पर नौकरी नहीं मिलती थी। नियुक्ति से पहले लोग वसूली पर निकल पड़ते थे। आज युवाओं को ईमानदारी से उनकी योग्यता पर नौकरी मिल रही है। आज किसी वर्ग का कोई युवा नहीं है जिसे शासन की योजनाओं का लाभ न मिल रह हो। भाजपा सरकार के साढ़े चार साल में 45 लाख आवास समाज के सभी वर्गों को मिलले है। पहले की सरकारें इससे वंचित करती थी । भाजपा सरकार ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान के जरिये अब तक 60 लाख लोगों को स्व रोजगार मुहैया कराया गया है। विभिन्न ट्रेड के कारीगरों को प्रशिक्षण देकर उनके स्वरोजगार के लिए ऋण और सब्सिडी दी जा रही है। विश्वकर्मा समाज को पिछड़ा वर्ग आयोग सहित संसद में भी भाजपा प्रतिनिधित्व दे रही है। विश्वकर्मा समाज के लोग आज जिला पंचायत अध्यक्ष, ब्लाक प्रमुख, प्रधान बनकर विकास में भागीदार बन रहे हैं। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा, बसपा और कांग्रेस को रामद्रोही और आतंकी समर्थक बताते हुए कहा कि यह कभी किसी समाज के हितैषी नहीं हो सकते। जो देश प्रदेश का हितैषी नहीं हो सकता वह ,किसी का हितैषी नहीं हो सकता। इनसे जितना दूर रहेंगे उतना ही आपका वर्तमान और भविष्य सुरक्षित रहेगा। लिहाज समाज, प्रदेश और भावी पीढ़ी के भविष्य के लिए घर-घर जाकर सरकार की योजनाओं से जागरूक करना होगा।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।