दिव्यांगजन और वरिष्ठ नागरिकों सहायक उपकरण वितरण के लिए 'सामाजिक अधिकारिता शिविर' का किया गया आयोजन

फर्रुखाबाद/ अमृतसर। एडिप योजना के तहत दिव्यांगजनों को सहायक उपकरणों के वितरण के लिए और राष्ट्रीय वैयोश्री योजना के तहत वरिष्ठ नागरिकों को आज फर्रुखाबाद (उप्र) और अमृतसर (पंजाब) में आयोजित किया गया। फर्रुखाबाद और अमृतसर के एलिम्को और जिला प्रशासन के सहयोग से दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग (डीईपीडब्ल्यूडी) द्वारा शिविरों का आयोजन किया गया ।

समारोह के मुख्य अतिथि भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री, डॉ वीरेंद्र कुमार ने जिलों के स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से दोनों शिविरों का उद्घाटन किया। कोविड -19 महामारी के मद्देनजर विभाग द्वारा तैयार एसओपी का पालन करते हुए प्रखंड/पंचायत स्तर पर वितरण किया जाएगा। पहला शिविर उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के फतेहगढ़ स्थित रॉयल जेजे गेस्ट हाउस में आयोजित किया गया, जिसमें फर्रुखाबाद के सांसद मुकेश राजपूत ने समारोह की अध्यक्षता की और मुख्य समारोह स्थल पर शारीरिक रूप से उपस्थित रहे। कोविड-19 महामारी के मद्देनजर विभाग द्वारा तैयार एसओपी का पालन करते हुए फर्रुखाबाद के 288 दिव्यांगजन और 756 वरिष्ठ नागरिकों को 1.46 करोड़ रुपये मूल्य के कुल 6530 सहायक उपकरण निशुल्क वितरित किए गए। इस अवसर पर संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार ने कहा कि दिव्यांगजन मानव संसाधन का अभिन्न अंग हैं। 

उन्होंने कहा कि मंत्रालय माननीय प्रधानमंत्री के 'सबका साथ सबका विकास' के विजन पर काम कर रहा है और उन्होंने समावेशी समाज के विकास और दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं। केंद्रीय मंत्री ने दिव्यांगजन के सशक्तिकरण के लिए कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम पर जोर दिया और उन्हें देश के समग्र विकास के लिए समाज की मुख्य धारा में लाया। माननीय मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश राज्य में 445 करोड़ रुपये के मूल्य के लिए 5043 दिव्यांगजनों को कौशल प्रशिक्षण दिया गया है। उत्तर प्रदेश में 137 सरकारी भवनों के लिए सुग्याया भारत अभियान के तहत 49.07 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की गई है। दिव्यांगजन के लिए देश भर में की गई विभिन्न पहलों के बारे में अवगत कराते हुए केंद्रीय मंत्री ने बताया कि सुगाम्या भारत अभियान के तहत 709 रेलवे स्टेशनों और 686 वेबसाइटों को सुलभ बनाया गया है और उत्तर प्रदेश में 37229 दिव्यांगजनों को 140.04 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति प्रदान की गई है।

पंजाब के अमृतसर में 1.83 करोड़ रुपये के उपकरणों के महत्व के तहत 1803 दिव्यांगजनों को सहायक उपकरण साबित करने के लिए केंद्रीय मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार ने एक अन्य वितरण शिविर का उद्घाटन किया। इस मौके पर संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिव्यांगजन की बेहतरी के लिए कई कदम उठाए हैं। एडिप योजना के अलावा दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा अन्य योजनाएं/कार्यक्रम भी चलाए जा रहे हैं, जैसे डीडीआरएस योजना, सिपडा योजना, कौशल विकास प्रशिक्षण, छात्रवृत्ति योजना, सुलभ भारत अभियान आदि। सुलभ इंडिया अभियान के तहत पंजाब की 20 सरकारी इमारतों के लिए 19.82 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है। पंजाब में 2528 दिव्यांग छात्रों को 5.91 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति प्रदान की गई है। भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता सचिव, डीईपीडब्ल्यूडी के उप सचिव, मंत्रालय के सीएमडी, अलीम्को और जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी समारोह के दौरान लगभग/व्यक्ति मौजूद रहेंगे।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन