ऐसे श्रेष्ठ और नियमित कर्म करें जिससे भाग्यशाली नहीं सौभाग्यशाली बनें

आप भाग्यशाली होते हैं तो जीवन में सुख साधन प्राप्त होते हैं, लेकिन सौभाग्यशाली हैं वो जिनके पास भोजन है और भूख भी है मखमल की सेज है और नींद भी है जिनके पास धन है साथ में धर्म भी है जिनके पास विशिष्टता तो है साथ में शिष्टता भी है जिनके पास सुन्दर रूप है तो सुन्दर चरित्र भी है जिनके पास सम्पत्ति है तो स्वास्थ्य भी है।

जिनके घर में मन्दिर है तो हृदय में भाव भी है जिनके पास अच्छा व्यापार है साथ में अच्छा व्यवहार भी है जिनके पास विद्वता है तो साथ में सरलता भी है जिनके पास प्रसिद्धि है तो निरहंकारता भी है जिनके पास बुद्धि है तो विवेक भी है जिनके पास परिवार है तो साथ में प्यार भी है यह सब अगर आपके पास हैं तो आप वास्तव में धनवान हैं और सौभाग्यशाली हैं।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर