आरबीआई ने प्रमुख ब्याज दरों को रखा अपरिवर्तित



 रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने प्रमुख उधार दर - रेपो दर - को लगातार 8वीं बार 4 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रखा है। रिवर्स रेपो रेट भी 3.5 फीसदी पर अपरिवर्तित रखी गई है। 

छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति के फैसलों की घोषणा करते हुए, आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सकल घरेलू उत्पाद का पूर्वानुमान 9.5 प्रतिशत लगाया गया है।गवर्नरने  कहा, "समिति ने टिकाऊ आधार पर विकास को पुनर्जीवित करने और बनाए रखने के लिए उदार रुख को जारी रखने तथा अर्थव्यवस्था पर पड़े कोविड -19 के दुष्प्रभाव को कम करना जारी रखने का भी फैसला किया है। यह सुनिश्चित किया गया है कि मुद्रास्फीति लक्ष्य के अंदर  बनी रहे।

गवर्नर ने महामारी की शुरुआत के बाद से अर्थव्यवस्था की वृद्धि और रिकवरी के लिए आरबीआई द्वारा उठाए गए विभिन्न उपायों की भी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरबीआई ने वित्त वर्ष 2021-22 के पहले 6 महीनों में ओपन मार्केट ऑपरेशंस के माध्यम से वित्तीय प्रणाली में 2.37 लाख करोड़ रुपये की तरलता डाली है।यह पूरे वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान 3.1 लाख करोड़ रुपये की तरलता डालने के परिपेक्ष्य में है।


श्री शक्तिकांत दास ने छोटे व्यवसायों और असंगठित क्षेत्रों की मदद करने के लिए अतिरिक्त उपायों की घोषणा की। इन घोषणाओं में शामिल हैं :

  1. तत्काल भुगतान सेवा लेनदेन की दैनिक सीमा को 2 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करनाग्राहक सुविधा को बढ़ाने के लिएतत्काल घरेलू फंड ट्रांसफर सातों दिन चौबीसों घंटे सक्षम करना।
  2. छोटे वित्त बैंकों के लिए 10,000 करोड़ रुपये की ऑन-टैप स्पेशल लिक्विडिटी लॉन्ग टर्म रेपो ऑपरेशंस को 31 दिसंबर, 2021 तक बढ़ाना।
  3. कम या दुर्लभ इंटरनेट एक्सेस वाले क्षेत्रों के लिए ऑफ़लाइन मोड में खुदरा डिजिटल भुगतान समाधानों के लिए अखिल भारतीय रूपरेखा की शुरुआत।
  4. तत्काल भुगतान सेवा लेनदेन की सीमा 2 लाख रुपये से बढ़ा कर 5 लाख रुपये की जाएगी।
  5. भुगतान स्वीकृति बुनियादी ढांचे की पहुंच का विस्तार करने के लिए सभी मौजूदा और नई भुगतान प्रणाली टचप्वाइंट की भौगोलिक –टैगिंग।
  6. फिनटेक इकोसिस्टम को और गति प्रदान करने के लिए आरबीआई की नियंत्रण व्यवस्था में नया धोखाधड़ी रोकथाम समूह।
  7. राज्यों के लिए उन्नत तरीके और साधन अग्रिम सीमा और उदारीकृत ओवरड्राफ्ट उपायों की निरंतरता को 31 मार्च, 2022 तक बनाए रखना।
  8. गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसीको दिए जाने वाले बैंक ऋणों का वर्गीकरण प्राथमिकता वाले क्षेत्र के रूप में 31 मार्च, 2022 तक बनाए रखना।
  9. आंतरिक शिकायत निवारण तंत्र को मजबूत करने के लिए एनबीएफसी के लिए उच्च ग्राहक इंटरफेस वाली आंतरिक लोकपाल योजना।

राज्यपाल ने आश्वासन दिया कि आज घोषित अतिरिक्त उपाय छोटे व्यवसायों और असंगठित क्षेत्र की संस्थाओं की मदद करेंगेकम या बिना इंटरनेट कनेक्टिविटी वाले दूरदराज के क्षेत्रों में मददगार होंगेडिजिटल भुगतान की पहुंच का विस्तार करेंगेफिनटेक पारिस्थितिकी तंत्र फिनटेक को और गति प्रदान करेंगे तथा उसमें निरंतर नवाचार सुनिश्चित करेंगे।

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राहत के रूप में आरबीआई  ने अर्थोपाय अग्रिम की सीमा की 51,560 करोड़ रुपये की अंतरिम वृद्धि भी 31 मार्च 2022 तक बढ़ा दी है। उन्होंने कहा कि “यह राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को महामारी जनित अनिश्चितताओं के बीच नकदी प्रवाह का प्रबंधन करने में मदद करने के लिए किया गया है।

राज्यपाल ने कहा कि "उपभोक्ता मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति कम हो रही है और सरकार द्वारा उठाए गए उपाय सब्जियों की कीमतों में अस्थिरता को रोकने में मदद कर रहे हैं।

2021-22 के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआईमुद्रास्फीति 5.3% अनुमानित

दूसरी तिमाही - 5.1 प्रतिशत

तीसरी तिमाही - 4.5 प्रतिशत

चौथी तिमाही - 6.1 प्रतिशत

वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही - 5.2 प्रतिशत

 

वित्त वर्ष 2021-22 के लिए वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद 9.5% बढ़ने का अनुमान

दूसरी तिमाही - 7.9 प्रतिशत

तीसरी तिमाही - 6.8 प्रतिशत

चौथी तिमाही - 6.1 प्रतिशत 

वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही - 17.2 प्रतिशत

राज्यपाल ने वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 400 बिलियन डॉलर के निर्यात लक्ष्य को पूरा करने में सक्षम होने का भी विश्वास दिलाया क्योंकि सितंबर 2021 में लगातार सातवें महीने निर्यात 30 अमेरिकी बिलियन डॉलर से ऊपर रहा है।

राज्यपाल ने कहा कि भारत में मौद्रिक नीति का संचालन घरेलू परिस्थितियों के अनुरूप होता रहेगा। "हमने जो हासिल किया है उसकी महिमा में हमें आराम नहीं करना चाहिएलेकिन जो किया जाना बाकी है उस पर अथक प्रयास करना चाहिए" राज्यपाल ने अर्थव्यवस्था को मदद देने के लिए सभी क्षेत्रों के संयुक्त प्रयासों का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि “कुल मिलाकर मांग में सुधार हो रहा हैलेकिन बाजार में अभी सुस्ती बनी हुई हैउत्पादन अब भी पूर्व-महामारी के स्तर से नीचे है और हालत में सुधार असमान बना हुआ है और उसकी निर्भरता नीतिगत समर्थन पर बनी हुई है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन