लखीमपुर कांड में मारे गए किसानों के लिए इंसाफ मांग रहे आप कार्यकर्ताओं से पुलिस का टकराव, कई हिरासत में

लखनऊ। लखीमपुर में चार किसानों की केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के समर्थकों के वाहन द्वारा रौंदकर की गई हत्या के मामले में आप ने इंसाफ की मांग करते हुए सोमवार को प्रदेश भर में प्रदर्शन किया। प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह के आह्वान पर लखनऊ में जिला महासचिव अफरोज आलम के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता प्रदर्शन करते हुए राज्यपाल को ज्ञापन देने की तैयारी में थे तभी भारी पुलिस बल उन्हें रोक लिया गया।
 
आप कार्यकर्ता पीछे हटने को तैयार नहीं हुए तो पुलिस ने बल प्रयोग किया और प्रदर्शन में शामिल महिलाओं के साथ अभद्रता की। झड़प के बाद पुलिस ने प्रदेश महिला विंग अध्यक्ष नीलम यादव एवं कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर इको गार्डन चली गई। प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने बताया कि प्रदेश में जगह-जगह इस घटना को लेकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे आप कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस ने जिस तरह से बल प्रयोग किया उसकी जितनी भी निंदा की जाए वह कम है। हम किसानों को न्याय दिलाने के लिए पुलिस हर ज्यादती सहने के लिए तैयार हैं। किसानों की हत्याओं के खिलाफ आम आदमी पार्टी द्वारा उठाई जा रही आवाज को योगी की पुलिस द्वारा भर तक दबाने की कोशिश के बीच विभिन्न जिलों में पार्टी द्वारा राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन प्रशासन को दिया गया, जिसमें मामले की निष्पक्ष जांच के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को पद से हटाने, घटना की हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट मॉनिटर्ड कमेटी से जांच कराने सहित मामले में आरोपों के घेरे में आ रहे मंत्री पुत्र पर 302 का मुकदमा दर्ज करके तत्काल गिरफ्तारी की मांग की गई है।
 
 
इन मुद्दों पर जल्द उचित कदम उठता नहीं दिखा तो पार्टी पूरे प्रदेश में जोरदार आंदोलन छेड़ेगी। प्रदेश अध्यक्ष ने लखनऊ में जिला महासचिव अफरोज आलम की अगुवाई में हुए प्रदर्शन के दौरान पार्टी की महिला नेताओं से पुलिस द्वारा की गई बदसलूकी की भर्त्सना की। इससे पहले लखनऊ में प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही नीलम यादव ने तीनों काले कानूनों को वापस लेने की मांग जोरदार ढंग से उठाते हुए कहा कि ये काले कानून क‍िसानों की मौत का फरमान हैं। इस घटना ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है। केंद्र सरकार को अविलंब इन कानूनों को वापस लेना चाहिए। नीलम यादव ने कहा कि डेढ़ सप्ताह पहले केंद्रीय राज्य मंत्री अजय म‍िश्र टेनी का एक आपत्तिजनक बयान आया, जिसमें उन्होंने आंदोलनकारी किसानों को चेतावनी देते हुए आंदोलन खत्म करने के लिए कहा था। केंद्रीय मंत्री की धमकी से गुस्साए क‍िसानों ने उनके गांव में आयोजित उपमुख्यमंत्री के कार्यक्रम के मौके पर शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन करने की घोषणा की थी। किसान विरोध जताने के लिए जब जमा थे तभी केंद्रीय राज्य मंत्री के समर्थकों की गाड़ियों का काफिला उनके बीच से गुजरा जिसमें एक वाहन द्वारा दुस्साहसिक ढंग से प्रदर्शनकारियों को कुचल दिया गया।
 
सूचना म‍िल रही है क‍ि केंद्रीय राज्य मंत्री का बेटा उस गाड़ी में सवार था जिससे रौंदकर 4 आंदोलनकारी क‍िसानों की हत्या में की गई है। यह घटना अंग्रेजी शासन की जुल्म ज्यादती को भी पीछे छोड़ने वाली है। ज्ञापन देने जाते वक्त नीलम यादव सहित पार्टी के अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उन्हें इको गार्डन ले गई। गिरफ्तारी के बाद नीलम यादव ने कहा कि पुलिसिया जुल्म से किसानों को इंसाफ दिलाने की हमारी लड़ाई नहीं रुकने वाली है। किसानों के हत्यारों को जेल पहुंचाने के पहले हम चैन से नहीं बैठेंगे। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता सन्तोष दुबे, प्रीतपाल सिंह सलूजा, रोहित श्रीवास्तव, कमर अब्बास, अफरोज आलम, सूरज प्रधान, तरुण मिश्रा, सुभाषनी मिश्रा, पंकज यादव, मो.तक़ी, माजिद अली, शफ़ीक़,ललित वाल्मीकि ताबिश, वीरेन्द्,सुनील कुमार गौतम,पवन, त्रिलोचन सिंह आदि मौजूद रहे।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन