ईश्वर की भक्ति का जात-पात से कोई मतलब नहीं

 
 
महाराज जी भक्तों को उपदेश दे रहे हैं- चमार, पासी, मेहतर, भगवान के अनन्य भक्त हो गये आज हम ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य कुल में जन्में, बढ़िया खाना, बढ़िया पहनना- और जाना कुछ नहीं अहंकार- रावण, कपट -मारीच, यह घुसे हैं ………… कुछ करने नहीं देते मान-अपमान जीव को खाये लेते हैं।
 
मेरी जाति दूसरे की जाति से श्रेष्ठ है। महाराज जी भक्तों को यहाँ पर समझा रहे हैं कि ये एक भावना हममें से बहुत से भक्तों को कभी भी ईश्वर के समीप नहीं जाने देती, महाराज जी के प्रति भाव सच्चे होने नहीं देती फिर हम चाहे जितना भजन कर लें, कथा-कीर्तन, सत्संग कर लें। जात -पात के हिसाब से दूसरों के साथ भेदभाव करना और अपने आप को महाराज जी का भक्त मानना- इसमें विरोधाभास है।
 
ज़रूरी नहीं है जो पहले से होता आया वो आज के युग में भी ठीक ही हो महाराज जी के भक्तों को जात -पात से ऊपर उठना होगा उनकी कृपा का पात्र बनने के लिए। महाराज जी ने जात- पात का सदैव विरोध किया है। उनके लिए सब भक्त बराबर हैं। और ईश्वर की भक्ति का जात-पात से तो कोई मतलब ही नहीं है।
 
महाराज जी सबका भला करें।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन