प्रदेश में निराशा-हताशा का माहौल है, फिर भी भाजपा जश्न मनाने का रिकार्ड बना रही है- अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है, बेरोजगारी के रिकार्ड टूट रहे हैं, अर्थव्यवस्था पटरी से उतरी हुई है, स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली से अस्पतालों में लोग दम तोड़ रहे हैं, प्रदेश में निराशा-हताशा का माहौल है, जनता में भारी आक्रोश है फिर भी भाजपा जश्न मनाने का रिकार्ड बना रही है। जनता के लिए इन हालात में दीवाली भी फीकी-फीकी हो जाएगी। ऐसे में अब जनता का एक ही संकल्प है कि जले पर नमक छिड़क रही भाजपा को फिर सत्ता में नहीं आने देना है।

प्रधानमंत्री गद्गद् हैं, मुख्यमंत्री आत्ममुग्ध हैं कि 21 अक्टूबर 2021 को भारत ने 100 करोड़ वैक्सीन टीककरण से नया इतिहास रच दिया है। झूठ को सच बनाने के खेल में माहिर भाजपाई यह क्यों नहीं बताते कि अभी मात्र एक चैथाई आबादी को ही दूसरी डोज की वैक्सीन लगी है। ऐसे में प्रधानमंत्री जी और सरकार के दावे कितने खोखले और सतही हैं जैसे भारत कोरोना से मुक्त हो गया है। भारत ने दुनिया की दौड़ में अपनी लंगड़ी टांग से शामिल होने का भी रिकार्ड बना लिया गया है। आधे-अधूरे कामों पर भी इतराने वाली भाजपा सरकार ने कोरोना में जिंदगी खोए हुए परिवारों की फिक्र नहीं की। डेंगू के फैलाव और उसमें हुई मौतों की भी याद नहीं की। ललितपुर में खाद न मिलने से लाइन में 2 दिन से लगे किसान की मौत हो गई।

दीपावली और भाई दूज जैसे त्योहारों की खुशी पर भी उसने पानी डाल दिया है। महंगाई और भ्रष्टाचार ने सबकी कमर तोड़ रखी है। सच पूछो तो अब जश्न मनाने का उत्साह ही नहीं रह गया है। आखिर त्योहार कौन मनाए? किसान आंदोलित है। नौजवानों की जिंदगी में अंधेरा छाया है। महिलाएं अपमानित हो रही है। व्यापारी नोटबंदी और जीएसटी के शिकार हैं। डीजल-पेट्रोल-रसोई गैस के बढ़ते भावों से लोग त्रस्त हैं। भाजपा जब तक रहेगी जनता परेशान रहेगी। समाज का हर वर्ग दुःखी रहेगा। समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर ही खुशहाली और विकास का मार्ग प्रशस्त होगा। इस विश्वास के साथ सन् 2022 में मतदाता भाजपा को प्रदेश में दुबारा मौका नहीं देने वाले हैं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन