अयोध्या का काबुल शहर से है पुराना नाता


अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में 28 अगस्त से देशभर में आयोजित किए गए रामायण कांक्लेव के समापन के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राम कथा पार्क पहुंची जहां सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच का स्वागत किया गया। दौरान राम कथा पार्क स्थल पर रामायण कांक्लेव प्रदर्शनी का अवलोकन किया तो वही समापन करते हुए अयोध्या के संतो से आशीर्वाद लिया।

अयोध्या रामायण का क्लिप के समापन के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भगवान राम सबके राम है और सभी के राम है और सभी हमारा भारत समाज राममय है। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुये आज मैं इस कान्क्लेव का समापन कर रहा हूं। यह प्रदेश के 16 जनपदों में विभिन्न थीमों पर आधारित शुरू हुआ था इसमें आम जनमानस में नई पीढ़ी में राम के प्रति तथा राम के चरित्र को आम लोगों के प्रति बताने के उद्देश्य से किया गया था कि नयी पीढ़ी भी इसे जाने।आज इस अवसर पर आगामी 3 नवम्बर 2021 को होने वाले पंचम दीपोत्सव 2021 के तैयारी की समीक्षा करने आया हूं।

इसी के कड़ी में इसका हम समापन कर रहे है तथा इस अवसर पर हम अयोध्या के पूज्य संतों का आर्शीवाद भी लेने आये है तथा उनका दर्शन भी करने आये है तथा उनका हमें सभी कार्यो में आर्शीवाद एवं मार्गदर्शन मिलता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अयोध्या के लिए रामायण कान्क्लेव का समापन एक और महत्वपूर्ण है।हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अफगानिस्तान के काबुल शहर की एक लड़की ने भगवान राम को अर्पित करने के लिए काबुल नदी का जल भेजा था उसको हमारे प्रधानमंत्री ने कहा कि आप मुख्यमंत्री इसको रामलला के जन्मस्थान/गर्भगृह में आप अर्पित किये। उसी को मैं भगवान रामलला का दर्शन करने के बाद गर्भगृह स्थान में अर्पित किया वहीं कहा हमारे अयोध्या की महाराजा दशरथ की एक महारानी एवं पूज्य भरत  की माता कैकेयी अफगानिस्तान की है, केकय राज्य/गन्धार से सम्बंध था। जिनके पिता अश्वपति का अनेक जगहों पर उल्लेख मिलता है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन