मरणान्तानि वैराणि निवॄत्तं न: प्रयोजनम्

 
मरणान्तानि वैराणि निवॄत्तं न: प्रयोजनम्।
क्रीयतामस्य संस्कारो ममापेष्य यथा तव॥

शत्रु के मृत्यु के पश्चात उससे शत्रुता समाप्त हो जाती हैअब वह जितना तुम्हारा है उतना ही मेरा भी हैअतः उसका योग्य प्रकार से अंत्येष्टि संस्कार करो।ये शब्द प्रभु श्रीराम ने विभीषण को रावण के मृत्यु के पश्चात तब कहे, जब वह अपने भ्राता के अंत्येष्टि करने से झिझक रहे थे, यह हमारी संस्कृति है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर