गुरूद्वारा नाका हिण्डोला में आतमरस कीर्तन समागम पर सजाया गया विशेष दीवान

लखनऊ। आज आतमरस कीर्तन समागम पर श्री गुरू सिंह सभा, ऐतिहासिक गुरूद्वारा नाका हिण्डोला, लखनऊ में विशेष दीवान सजाया गया। इस अवसर पर सायं का दीवान 6.00 बजे रहिरास साहिब के पाठ से आरम्भ हुआ जिसमें रागी जत्था भाई राजिन्दर सिंह ने अपनी मधुरवाणी में शबद कीर्तन गायन एवं नाम सिमरन करवाया संगत मुख्य ग्रंथी ज्ञानी सुखदेव सिंह जी ने गुरमति ज्ञान देते हुए कहा कि मनुष्य का जीवन सभी जोनियों में श्रेष्ठ जीवन है जो कि भगवान ने सेवा व सिमरन करने के लिए दिया है जो मनुष्य साध संगत में आकर सिमरन करते हैं वो सभी जोनियों से मक्त हो जाते हैं।
 
उनकी जीवन यात्रा सफल हो जाती है और भगवान के घर में उनका आदर सम्मान बढ़ जाता है। इसलिए हर प्राणी का सिमरन करना चाहिए। विशेष रूप से पधारे रागी जत्था भाई गुरप्रीत सिंह हजूरी रागी दरबार साहिब श्री अमृतसर जी ने शबद कीर्तन-
 
"भगत जना की पैज हरि राखै जन नानक आपि हरि किरपा करे।।"
"हे ठाकुर हउ दासरो मै निरगुन गुनि नाहि कोइ।।"
 
गायन कर समूह संगत को निहाल किया। कार्यक्रम का संचालन सतपाल सिंह मीत ने किया। दीवान की समाप्ति के पश्चात लखनऊ गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बग्गा ने रागी जत्था भाई गुरप्रीत सिंह को गुरु घर का सम्मान सिरोपा भेंट कर सम्मानित किया। समाप्ति के उपरान्त गुरु का लंगर श्रद्धालुओं में वितरित किया गया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर