ईश्वर सभी जीवों को वैसे ही नचाते हैं, जैसे सूत्रधार कठपुतलियों को मंच पर घुमाता है

 
सबके हृदय में निवास करने वाले ईश्वर सभी जीवों को वैसे ही नचाते हैं, जैसे सूत्रधार कठपुतलियों को मंच पर घुमाता है। वस्तुतः वे ऐसे सूत्रधार हैं, जो ऋषि मुनि, ज्ञानी अज्ञानी, राजा रंक सभी को नचा रहे हैंजब सभी उनके इशारे पर नाच रहे हैं तो सामान्य जीव की क्या बिसात वे सूक्ष्म से भी अति सूक्ष्म और महान से भी महान हैं।
 
जैसे लघु पक्षी आकाश के विस्तार को नहीं पा सकता, समुद्र की मछली सागर की गहराई तथा अथाह जलराशि को नहीं नाप सकती वैसे ही मनुष्य उस सूत्रधार को नहीं समझ सकता जो सब लोकों का एकमात्र स्वामी है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन