सतयुग का धर्म ध्यान, त्रेतायुग का यजन-पूजन और द्वापर का धर्म सेवा है

 
जो बड़भागी जीव कथा, कीर्तन, ध्यान, जप और सेवा में ही लगा रहता है उसके जीवन मे माया का प्रवेश नहीं होता। सतयुग का धर्म ध्यान, त्रेतायुग का धर्म यजन-पूजन, द्वापर का धर्म सेवा और कलियुग के धर्म हरि कीर्तन है
 
इस कलिकाल में भी कितने वैष्णव ऐसे हैं, जिनके घर में कलियुग का प्रवेश नहीं है। इस कलिकाल में ही भगवान चैतन्य महाप्रभु ने इस संदेश को दिया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर