सतयुग का धर्म ध्यान, त्रेतायुग का यजन-पूजन और द्वापर का धर्म सेवा है

 
जो बड़भागी जीव कथा, कीर्तन, ध्यान, जप और सेवा में ही लगा रहता है उसके जीवन मे माया का प्रवेश नहीं होता। सतयुग का धर्म ध्यान, त्रेतायुग का धर्म यजन-पूजन, द्वापर का धर्म सेवा और कलियुग के धर्म हरि कीर्तन है
 
इस कलिकाल में भी कितने वैष्णव ऐसे हैं, जिनके घर में कलियुग का प्रवेश नहीं है। इस कलिकाल में ही भगवान चैतन्य महाप्रभु ने इस संदेश को दिया।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन