अखिलेश यादव को हर बात राजनीति के चश्मे से देखने की लग गयी है बुरी बीमारी- स्वतंत्र देव सिंह


लखनऊ भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने शुक्रवार को कहा कि समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव को हर बात राजनीति के चश्मे से देखने की बुरी बीमारी लग गयी है, यही कारण है कि संविधान दिवस जैसे पवित्र दिन भी वे कुत्सित राजनीति से ऊपर नहीं उठ पाए। उन्होंने कहा कि आज का दिन जब पूरा देश भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीमराव आंबेडकर को याद कर रहा है और उनके आदर्शों पर चलने का संकल्प ले रहा है तो सपा मुखिया को चुनाव याद आ रहे हैं।
 
सिंह ने कहा कि जब मंच से अखिलेश यादव दबे-कुचले, वंचितों शोषितों और गरीबों के उत्थान की बड़ी-बडी बातें कर रहे थे तो वह भूल गए कि अनुसूचित जाति गरीबों और वंचितों पर सबसे ज्यादा अत्याचार सपा कार्यकाल में ही हुआ था। सबसे ज्यादा दलित उत्पीड़न के मामलें सपा कार्यकाल में ही सामने आए थे। स्थिति यह थी कि दलितों की एफआईआर तक दर्ज नहीं की जाती थी। उन्होंने कहा कि वही सपा मुखिया आज मंच से संविधान, जो दलित, वंचित, शोषित वर्ग की सुरक्षा के लिए बनाया गया था, उसके बारे में बात कर रहे थे। उन्हें इस संविधान की याद अपने शासनकाल में नहीं आई जब दलितों को मारा-पीटा जाता था और यहां तक कि उनकी हत्या कर दी जाती थी फिर भी कोई कार्रवाई नहीं होती थी। विडम्बना है कि संविधान को क्षत विक्षत और लहुलुहान करने वाले सपाई संविधान की दुहाई दे रहे है। पार्टी के राज्य मुख्यालय पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था इतनी सशक्त है कि माफिया और गुंडें अंतिम सांसे ले रहा है।
 
प्रदेश में बेटियां आधी रात में भी जहां जाना चाहती हैं आ-जा सकती हैं। आज प्रदेश में बेटियां राज्य और देश के विकास में अपना योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी के क्षेत्र में भी हम आगे बढ़े हैं जीरो टॉलरेंस की नीति के चलते अपराधियों को बेल नहीं-जेल पसंद आ रहा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि सपा-बसपा के शासनकाल में अपराधियों और माफियाओं ने जो संपत्ति अर्जित की थी ऐसी 1866 करोड़ रूपये से अधिक की संपत्ति ध्वस्त की गई है, 36990 गुंडे माफिया गुंडा एक्ट के तहत एवं 523 अपराधी एनएसए के तहत गिरफ्तार किए गए हैं। महिलाओं के लिए यह प्रदेश सुरक्षित और बच्चों के लिए भयमुक्त जीवन का सपना साकार हो रहा हैै। पहली बार 1535 पुलिस थानों में महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत हुई है, 4000 महिलाओं की भर्ती के साथ पुलिस विभाग में रानी अवन्ती बाई लोधी, वीरागंना उदादेवी तथा वीरागंना झलकारी बाई, महिला बटालियन की स्थापना की गई है। जबकि एंटी रोमियो स्क्वायड ने 10000 से अधिक छेड़खानी के मामले दर्ज कर 15000 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है। त्वरित न्याय के लिए 218 नए फास्ट ट्रैक कोर्ट, 81 मजिस्ट्रेट स्तरीय न्यायालय और 81 अपर सत्र न्यायालय की स्थापना की गई है।
 
स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि सपा-बसपा-कांग्रेस सरकार सभी ने देखी है। एक तरफ ईमानदार नेतृत्व परिश्रम की पराकाष्ठा पर चलने वाली योगी के नेतृत्व की उत्तर प्रदेश सरकार है, जो गुंडे माफियाओं का सफाया कर रही है। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा सरकार में दिनदहाड़े बलात्कार और आपराधिक घटनाएं हो जाया करती थी, दंगा फसाद हो होता रहता था। लेकिन अब राज्य के अंदर साढे़ 4 साल में एक भी बम विस्फोट नहीं हुआ, एक आतंकवादी घटना नहीं हुई, राज्य सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि जहां कानून का राज होता है वहां शांति होती है और जहां शांति होती है वहां विकास होता है। व्यापारी अपना-अपना व्यापार शांति के साथ चला रहे हैं जिससे उत्तर प्रदेश का विकास हो रहा है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पहले उत्तर प्रदेश के लोग जब बाहर जाते थे तो उन्हें होटल देने में भी लोग डरते थे अब यहां के लोग चाहे महाराष्ट्र जाए या फिर किसी दूसरे प्रदेश में उन्हें आराम से होटल मिलता है उनका सम्मान होता है। योगी के नेतृत्व उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार मुक्त, गुंडागर्दी मुक्त एवं भयमुक्त समाज की स्थापना हुई है। योगी राज्य में कानून का राज्य है-शांति है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर