शांति मार्ग नहीं अपितु लक्ष्य है

 
 
संघर्ष पथ से ही लक्ष्य प्राप्त होता है और लक्ष्य प्राप्ति से गहन निद्रा और शांति प्राप्त होती हैजीवन का उद्देश्य परम शांति को प्राप्त करना है मगर बिना संघर्ष के जीवन में शांति की प्राप्ति हो पाना कदापि सम्भव नहीं हैशांति मार्ग नहीं अपितु लक्ष्य है, बिना संघर्ष पथ के इस लक्ष्य तक पहुँचना असम्भव है।
 
जो लोग पूरे दिन को सिर्फ व्यर्थ की बातों में गवाँ देते हैं, वे रात्रि की गहन निद्रा के सुख से भी वंचित रह जाते हैं मगर जिन लोगों का पूरा दिन एक संघर्ष में, परिश्रम में, पुरुषार्थ में गुजरता है वही लोग रात्रि में गहन निद्रा और गहन शांति के हकदार भी बन जाते हैं। जीवन भी ठीक ऐसा ही है यहाँ यात्रा का पथ जितना विकट होता है लक्ष्य की प्राप्ति भी उतनी ही आनंद दायक और शांति प्रदायक होती है मगर याद रहे लक्ष्य श्रेष्ठ हो, दिशा सही हो और प्रयत्न में निष्ठा हो फिर आपके संघर्ष की परिणिति परम शांति ही होने वाली है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर