सत्य के मार्ग पर चलने का भाव ही वास्तविक जगना है

 

मनुष्य के भीतर दैवीय गुणों को जाग्रत करना ही देवोत्थान एकादशी व्रत का मुख्य संदेश हैयह शास्त्रों की और हमारे मनीषियों की हमारे ऊपर बड़ी कृपा रही है कि जब जब हमारे भीतर का देवत्व सुषुप्त अवस्था में चला जाता है तथा आसुरी वृत्तियाँ हमारे चित्त पर हावी होने लगती है तब तब कोई न कोई ऐसा पर्व या व्रत जरुर आ जाता है जो हमें हमारे देवत्व का बोध करा जाता है।

हमारी चेतना में सुषुप्त देवत्व को जागृत करना यह आज के व्रत का मुख्य उदेश्य है, निराहार रहना आज के व्रत का उदेश्य नही निर्विकार रहना जरुर है सत्कर्म करने की भावना जग जाए सत्य के मार्ग पर चलने का भाव जग जाए यही वास्तविक जगना है। नारायण माने धर्म हमारे भीतर धर्म जाग्रत हो जाये भगवान का बैकुंठ में जागना तो महत्व रखता ही है उनसे प्रार्थना करें कि वे हमारे ह्रदय रूपी बैकुंठ में भी जग जाएँ।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन