हजार में से केवल एक ऐसा होता है जो संसार की माया से भयभीत नहीं होता

 
महाराज जी भक्तों को उपदेश से रहे हैं एक बार तपस्वी जुन्नुन को रोते देख किसी ने उसका कारण पूछा वह बोले, गत रात मैंने एक स्वप्न देखा कोई कह रहा था कि अपने रचे हुए सब मनुष्यों के आगे मैंने संसार रक्खा। उसमें से हज़ार में से नौ सौ उस संसार को ग्रहण करते हैं सौ उसका त्याग करते हैं, उस सौ त्यागियों के सामने स्वर्ग की लालसा रखता हूँ तो नब्बे स्वर्ग के लोभ में आ जाते हैं।
 
केवल दस उसकी उपेक्षा करते हैं उनको नरक का भय दिखाता हूँ तो नौ डर कर भाग जाते हैं केवल एक स्थाई रहता है तात्पर्य यह है कि हजार में से केवल एक ऐसा होता है जो संसार की माया, स्वर्ग की लालसा, नरक भय से भयभीत नहीं होता है। वही मुझे पाता है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन