12 दिनों में 3500 किमी की दूरी तय करके दिल्ली पहुंच गया 'राष्ट्रीय एमएसएमई अभियान दल"

 
राष्ट्रीय एमएसएमई अभियान दल कल रात उत्तर प्रदेश के संभल जिले से दिल्ली पहुंच गया है। दल ने 12 दिवसीय अभियान के दौरान सड़क के जरिये 3500 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की। सूक्ष्म, लुघ और मध्यम उद्यम मंत्री नारायण राणे ने 27 नवंबर, 2021 को राष्ट्रीय एमएसएमई अभियान दल को झंडी दिखाकर दिल्ली से रवाना किया था। अभियान के पहले चरण में दल पांच राज्यों से होकर गुजरा। उसने ग्रामीण और शहरी इलाकों में 75 एमएसएमई सभायें आयोजित कीं।
 
इन सभाओं में आजादी का अमृत महोत्सव के अंश के रूप में एमएसएमई योजनाओं की जानकारी दी गई। उल्लेखनीय है कि देश में आजादी का अमृत महोत्सव 12 मार्च, 2021 से 15 अगस्त 2023 तक मनाया जा रहा है। दल दिल्ली से फरीदाबाद, बल्लभगढ़, पलवल, आगरा, फिरोजाबाद, फतेहपुर, कानपुर, प्रयागराज, रीवा, वाराणसी, बक्सर, आरा, पटना, छपरा, चंपारण, गोरखपुर, संत कबीर नगर, सुलतानपुर, कन्नौज, लखनऊ, अनूपशहर और संभल से गुजरा। यात्रा के दौरान दल ने प्रत्यक्ष रूप से हजारों लोगों के बीच और अप्रत्यक्ष रूप से लाखों लोगों के बीच एमएसएमई योजनाओं के बारे में जागरूकता का प्रसार किया।
 
टना में बिहार के उद्योग मंत्री सैय्यद शाहनवाज हुसैन ने आगे की यात्रा के लिये अभियान को झंडी दिखाकर रवाना किया। लखनऊ में उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सात दिसंबर, 2021 को झंडी दिखाकर अभियान को रवाना किया। संभल जिले में उत्तरप्रदेश की शिक्षा राज्यमंत्री गुलाबो देवी ने झंडी दिखाकर अभियान को दिल्ली रवाना किया। चंपारण में प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और बिहार के पूर्व मंत्री ब्रजकिशोर सिंह ने दल को राष्ट्रीय ध्वज प्रदान किया। स्वतंत्रता संग्राम के महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के पौत्र अमित आजाद ने लखनऊ में दल को राष्ट्रीय ध्वज प्रदान किया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर