वित्त मंत्री ने “रिकवर टूगेदर, रिकवर स्ट्रांगर” विषय पर आयोजित जी-20 सेमिनार में लिया भाग

केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने जी20 अध्यक्ष, इंडोनेशिया द्वारा बाली में आयोजित जी20 अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार में नई दिल्ली से वर्चुअल रूप में भाग लिया।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी20 अध्यक्ष, इंडोनेशिया द्वारा बाली में आयोजित जी20 अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार को नई दिल्ली से वर्चुअल रूप में संबोधित करती हुईं। इस वर्ष के लिए जी20 की थीम, “रिकवर टूगेदर, रिकवर स्ट्रांगर” पर अपने संबोधन में वित्त मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि वैश्विक अर्थव्यवस्था की मजबूत, स्थायी, संतुलित और समावेशी की स्थिति को फिर से प्राप्त करने के लिएसभी देशों की सामूहिक प्रगति सुनिश्चित करना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में बहुपक्षवाद और सामूहिक कार्य की भूमिका महत्वपूर्ण है। सीतारमण ने वैश्विक स्तर पर फिर से पहले की बेहतर स्थिति को प्राप्त करने में समावेश, निवेश, नवाचार और संस्थानों के महत्व को भी रेखांकित किया।

वित्त मंत्री ने वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए फिर से पहले की स्थिति प्राप्त करने में असमानताओं को समाप्त करने के साथ टीकों औरदवाओं को किफायती बनाने तथा इन तक समान पहुंच सुनिश्चित करने के महत्व पर जोर दिया। इस संदर्भ में सीतारमण ने इस बात पर प्रकाश डाला कि अब तक भारत टीकों की 1.25 बिलियन से अधिक खुराकें दे चुका है और 90 से अधिक देशों को 72 मिलियन से अधिक वैक्सीन खुराकों की आपूर्ति की है, जिनमें अनुदान के रूप में दिए गए टीके भी शामिल हैं।यह वैश्विक स्तर पर समन्वित होकर कार्य करने के सन्दर्भ में भारत की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

वित्त मंत्री ने विकास पथ पर त्वरित और स्थिर वापसी को सक्षम बनाने के लिए अवसंरचना के निवेश में वृद्धि के महत्व पर जोर दिया। सीतारमण ने इस बात पर भी जोर दिया कि पर्यावरण-अनुकूल निवेश, सरकारों के पुनर्निर्माण के प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उन्होंने जी20 से इस बात पर विचार-विमर्श करने का आह्वान किया कि विकासशील देशों को जलवायु वित्त और पर्यावरण-अनुकूल प्रौद्योगिकियां कैसे उपलब्ध कराई जा सकती हैं, ताकि पर्यावरण-अनुकूल विकास की दिशा में उनके प्रयासों को प्रोत्साहन दिया जा सके और इनमें तेजी लाई जा सके।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर