अधिवक्ता दिवस पर प्रथम राष्ट्पति को नमन

सीतापुर भारत परिषद द्वारा मंडल कार्यालय बट्सगंज में अधिवक्ता दिवस के अवसर पर देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद को नमन कर श्रद्धांजलि अर्पित की जयंती पर मंडल अध्यक्ष रत्नेश द्विवेदी ने कहा डॉ० राजेन्द्र प्रसाद एक विद्वान अधिवक्ता  और भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे जो स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से एक और संविधान के निर्माण में भी अपना योगदान दिया था।

जिला महासचिव आकाश राय ने कहा डॉ० राजेन्द्र प्रसाद  सम्पूर्ण देश में अत्यन्त लोकप्रिय होने के कारण उन्हें राजेन्द्र बाबू या देशरत्न कहकर पुकारा जाता था। उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिए भारत सरकार द्वारा उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। विधी प्रकोष्ठ अध्यक्ष मुईद अहमद ने कहा  भारत की सारी न्याय व्यवस्था अधिवक्ता के काम पर टिकी हुई है।  न्याय मिल ही इसलिए रहा है क्योंकि अधिवक्ता उपलब्ध है। अधिवक्ता न्यायालय के अधिकारी है, कभी कभी वह न्यायधीश से उच्च स्तरीय प्रतीत होतें क्योंकि संपूर्ण न्याय व्यवस्था का भार इन ही काले कोट के कंधों पर है। अगर अधिवक्ता न हो तो भारत की जनता को न्याय मिलना असंभव सा हो चले।

इस दौरान  मंडल अध्यक्ष रत्नेश द्विवेदी, जिला अध्यक्ष डॉ वीरेन्द्र आर्या, जिला महासचिव आकाश राय, चिकित्सा प्रकोष्ठ अध्यक्ष सचिन त्रिपाठी, महासचिव डॉ राजीव मिश्रा, उपाध्यक्ष कमलेश मेहरोत्रा, उपाध्यक्ष सुधांशु मिश्रा, राम कुमार कटियार, डॉ शांति स्वरुप रस्तोगी, जिलाध्यक्ष छायाकार अजीत सक्सेना ,कोषाध्यक्ष वेद प्रकाश कश्यप, विधि प्रकोष्ठ अध्यक्ष मुईद अहमद, व्यापार प्रकोष्ठ अध्यक्ष अन्नी भइया, उपाध्यक्ष निकेत रस्तोगी, जिला अध्यक्ष महिला अनुपमा द्विवेदी, उपाध्यक्ष रजनी वर्मा, शशि तिवारी, संरक्षक शिव बालक त्रिवेदी, विनीता सिंह, वाई एन मिश्रा, संयोजक  निहारिका श्रीवास्तव, वार्ड अध्यक्ष दीपाली जायसवाल, शिखा शर्मा, नगर अध्यक्ष महिला सरिता शर्मा, मंत्री अम्बरीश दीक्षित, मीडिया प्रभारी लक्षमी  कांत बाजपाई, संगठन मंत्री सीमा बाजपाई आदि उपस्थित रहे।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर