डाक विभागके तत्वावधान में स्कूलों में पोस्टकार्ड लेखन प्रतियोगिता का होगा आयोजन


वाराणसी 'आजादी का अमृत महोत्सव' के अंतर्गत स्कूली विद्यार्थी अब देश के प्रधानमंत्री को पोस्टकार्ड के माध्यम से  'स्वतंत्रता संग्राम के अकीर्तित नायक' (Unsung Heroes of freedom Struggle) और '2047 में भारत के प्रति मेरा दृष्टिकोण' (My vision for India in 2047) विषय पर अपना विचार भेजेंगे। इस प्रतियोगिता का आयोजन भारत सरकार के शिक्षा विभाग के अधीन स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग एवं डाक विभाग के तत्वावधान में होगा। इसमें देश भर से 75 लाख विद्यार्थी भाग लेंगे।
 
उक्त जानकारी देते हुए वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इसके लिए 1 दिसम्बर से आरम्भ होकर 20 दिसंबर तक विभिन्न स्कूलों में पोस्टकार्ड लेखन प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है। विद्यार्थियों को स्कूल के माध्यम से 50 पैसे में पोस्टकार्ड उपलब्ध कराया जायेगा, जिस पर पहले से ही प्रधानमंत्री कार्यालय का पता अंकित होगा।  इसमें सीबीएसई बोर्ड, केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय और राज्य बोर्डों  से सम्बद्ध स्कूलों के कक्षा 4 से 12 तक के विद्यार्थी शामिल होकर हिंदी, अंग्रेजी व अनुसूचित भाषा में पोस्टकार्ड लिखकर प्रधानमंत्री के पते पर भेज सकते हैं। यादव ने बताया कि वाराणसी परिक्षेत्र से करीब 2 लाख विद्यार्थी प्रधानमंत्री को पोस्टकार्ड लिखकर भेजेंगे। इसके लिए डाक विभाग सभी विद्यालयों से समन्वय बनाकर उक्त प्रतियोगिता के बारे में  विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए पोस्टकार्ड लेखन प्रतियोगिता का आयोजन करा रहा है। अब तक एक लाख से ज्यादा पोस्टकार्ड स्कूलों को उनकी माँग पर दिए जा चुके हैं।
 
यादव ने कहा कि इस प्रतियोगिता के माध्यम से युवाओं को आजादी के गुमनाम नायकों के बारे में जानने का मौका मिलेगा, वहीं बच्चे जो इस देश के भविष्य हैं वह भारत के उत्थान के लिए, भारत के विकास के लिए अपनी सोच को प्रधानमंत्री के समक्ष रख सकेंगे। इसके साथ ही नयी पीढ़ी में पत्राचार करने और पत्र लिखने का अनुभव भी होगा एवं पत्रों की अनोखी दुनिया के बारे में जानने का मौका भी मिलेगा। पोस्टमास्टर जनरल ने कहा कि प्रतियोगिता के बाद, राज्य सरकार से सम्बद्ध सभी स्कूल अपने यहाँ के सर्वोत्तम 10 लिखे पोस्टकार्ड को माई गव के लिंक  https://innovateindia.mygov.in/postcardcampaign और सीबीएसई बोर्ड के स्कूल https://cbseit.in/cbse/2021/dak/frmlogin.aspx पर अपलोड करेंगे। डाक विभाग द्वारा एक निश्चित तिथि पर सभी पोस्टकार्ड को स्पेशल बैग के माध्यम से प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंचाने की व्यवस्था की गयी है। 17 जनवरी, 2021 को देश भर से चुने हुए सर्वश्रेष्ठ 75 पोस्टकार्ड के लेखक विद्यार्थियों को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का सुअवसर मिलेगा और उस दौरान वहाँ श्रेष्ठ विचारों वाले  500-1000 पोस्टकार्ड्स को प्रदर्शनी के माध्यम से प्रदर्शित भी किया जायेगा।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर