पवित्र हृदय से किये गये कार्य भी पवित्र ही होते हैं



जो लोग अपनी जिम्मेदारियों से बचने के लिये असत्य भाषित करते हैं उनका आत्मबल बड़ा ही कमजोर हो जाता है इससे मन के अंदर उदासी आती है और प्रत्येक कार्य में अपूर्णता रहती है।हमारी जिह्वा में सत्यता हो चेहरे में प्रसन्नता हो और हृदय में पवित्रता हो तो इससे बढ़कर सुखद जीवन का और कोई अन्य सूत्र नहीं हो सकता। निश्चित समझिए असत्य हमें भीतर से कमजोर बना देता है जो लोग असत्य भाषित करते हैं, उनका आत्मबल बड़ा ही कमजोर होता है

जो लोग अपनी जिम्मेदारियों से बचना चाहते हैं, वही सबसे अधिक असत्य का भाषण करते हैं।हमें सत्य का आश्रय लेकर एक जिम्मेदार व्यक्ति बनने का सतत प्रयास करना चाहिए। उदासी में किये गये प्रत्येक कर्म में पूर्णता का अभाव पाया जाता है। हमें प्रयास करना चाहिए कि प्रत्येक कर्म को प्रसन्नता के साथ किया जाना चाहिए। जीवन हमें उदासी और प्रसन्नता दोनों विकल्प प्रस्तुत करता है। अब ये हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हमें क्या पसंद है हम क्या चुनना चाहते हैं। जीवन में अगर कोई बहुत बड़ी उपलब्धि है तो वह पवित्र हृदय की प्राप्ति है पवित्र हृदय से किये गये कार्य भी पवित्र ही होते हैं।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर