सामान्य जीव भगवान को पहचानने में असमर्थ रहता है

 
विशुद्ध अन्तःकरण वाले परमहंस जिनके अन्तस् में भगवान अपनी प्रेममयी भक्ति प्रकट करते हैं वे ही तत्वतः आपको पहचान पाते हैंसामान्य जीव तो भगवान को पहचानने में असमर्थ ही रहता है। भगवान का अवतार असुर संहार, धर्म संस्थापना तथा गो विप्र रक्षा आदि के लिए होता है
 
अवतार का मूलतः उद्देश्य भक्तों का पोषण है। भगवान के अवतार के बाद भक्तों को दोहरा लाभ होता हैएक तो वे अवतार के दर्शन करते हैं तथा दूसरे उनकी लीलाओं का गान करते हैं भक्तियोग विधानार्थ ही भगवान का अवतार होता है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर