खेल में बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को मेडल और प्रशंसा पत्र देकर किया गया सम्मानित

श्रावस्ती। जिलाधिकारी नेहा प्रकाश ने जूनियर हाईस्कूल भिनगा कैम्पस में चल रहे जनपद स्तरीय बेसिक बाल क्रीडा प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होने मां सरस्वती जी के चित्र पर माल्यार्पण कर द्वीप प्रज्जवलित किया। तदोपरान्त् खेल में बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं केा मेडल और प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होने अपने सम्बोधन में कहा कि बच्चे का विकास स्वस्थ तरीके से हो तो उसके लिए बच्चों के खेल खेलना बहुत ही जरूरी होता है।
 
अगर बच्चे किसी तरह का खेल नहीं खेलेंगे तो बच्चों के शरीर का विकास अच्छी तरह से नहीं होगा, न ही वह एक्टिव रहेंगे। अगर बच्चों को उनके बचपन में खेलने से रोका जाता हैं तो वास्तव में उनका सर्वागीण विकास नही हो सकता है, इसलिए बच्चों के सर्वागीण विकास के लिए खेल अति आवश्यक होते है। खेल प्रतियोगिता में बच्चों को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलता है। उन्होने कहा कि जब बच्चे खेलों में भाग लेते है तो उनमें सामाजिक कौशल का बहुत अच्छा विकास होता है। खेलों के दौरान बच्चे अन्य बच्चों से मिलते है और उनसे बातचीत करते है। यह उसके सामाजिक कौशल के विकास में सहायक होता है। जब बच्चे किसी भी तरह का कोई खेल खेलते हैं तो उनका शारीरिक विकास भी होता है, जो बच्चों को जल्दी सीखने और बढ़ने में सहायक होता है। खेल या अन्य शारीरिक गतिविधियों से मांसपेशियों का विकास होता है। स्वस्थ हड्डियों और मांसपेशियों के अच्छे विकास के लिए बच्चे को किसी भी तरह का खेल खेलने के लिए उत्साहित करना चाहिए।
 
जब बच्चा खेलों में भाग लेता है तो उसकी इम्यूनिटी बढ़ती है। उन्होने कहा कि इन छात्र-छात्राओं को बेहतर ढंग से शिक्षा देने के साथ ही उनके अभिरूचि के अनुसार खेल पर भी विशेष ध्यान दिया जाए, ताकि वे अपनी अभिरूचि के अनुसार खेलों को खेलकर अपना व अपने जनपद के साथ-साथ अपने देश का नाम रोशन कर सकें। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रभुराम चौहान ने जनपद स्तरीय बेसिक बाल क्रीडा प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने पर जिलाधिकारी का स्वागत किया, तथा खेल प्रतियोगिता पर प्रकाश डाला। वहीं कार्यक्रम का समापन होने पर खण्ड शिक्षा अधिकारी अखिलेश यादव ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर खण्ड शिक्षा अधिकारी प्रिया पाठक, कृष्ण कुमार, सुनीता वर्मा, भारत भूषण, राजीव कुमार ओझा सहित अध्यापक/अध्यापिकाएं एवं स्कूली छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर