लखनऊ गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी नें शहीद सीडीएस बिपिन रावत एवं शहीद फौजियो को दी श्रद्धांजलि


लखनऊ। लखनऊ गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आह्वान पर आज लखनऊ के विभिन्न गुरुद्वारों में शहीद सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनके साथ शहीद हुए फौजी अधिकारियों की आत्मिक शांति के लिए विशेष अरदास की गई।  आज  प्रातः के विशेष दीवान में श्री गुरू सिंह सभा, ऐतिहासिक गुरूद्वारा नाका हिन्डोला, लखनऊ में शहीद सेनापति सी.डी.एस. जनरल बिपिन रावत एवं शहीद फौजियो को श्रद्धांजलि एवं आत्मिक शांति हेतु मुख्य ग्रन्थी ज्ञानी पुरषोत्तम सिंह एवं समूह संगत ने श्री गुरु  ग्रन्थ साहिब जी महाराज के समक्ष प्रभु चरणों में अरदास की।

इस अवसर पर शहीदों को श्रद्धांजलि हुए लखनऊ गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बग्गा ने कहा कि देश के महान सपूत सी.डी.एस. जनरल बिपिन रावत, ब्रिगेडियर लखविंदर सिंह,  लेफटीनेंट कर्नल हरजिन्दर सिंह, लान्स नायक गुरसेवक सिंह तथा अन्य सभी शहीदों की देश के प्रति अतुलनीय सेवाएं एवं शहादत के आगे सभी देशवासी नतमस्तक हैं तथा उनकों अश्रुपूरित श्रद्धांजलि देते हैं। ऐसे कठिन एवं दुखः की घड़ी में सारा देश शहीदों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता है। हम सब शहीद परिवारों की चढ़दी कला के लिए गुरु चरणों में अरदास करते हैं। गुरुद्वारा सदर में भी शहीद फौजी अधिकारियों के को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी आत्मिक शांति और परिवार की चढ़दी कला के लिए गुरु चरणों में अरदास की गई हरपाल सिंह जग्गी अध्य्क्ष गुरुद्वारा सदर ने कहा कि जनरल बिपिन रावत एक सच्चे देश भक्त थे एवम उन्होंने ने आतंकवाद के विरुद्ध कई ऐतिहासिक ऑपरेशन किये।


देश की सीमाओं के बाहर जाकर भी उनके नेतृत्व में भारतीय फौज ने ऑपरेशन और सर्जिकल स्ट्राइक करके भारतीय सेना की आक्रमक और मजबूत छवि बनाई। उनके निधन सेआज हर भारतीय का दिल द्रवित है। कमेटी के प्रवक्ता सतपाल सिंह मीत जी नें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि शहीद सेनापति सी.डी.एस. जनरल बिपिन रावत उच्चकोटि के रणनीतिकार थे जिनके नेतृत्व में भारतीय फौत का मनोबल बहुत ऊँचा था तथा भारतीय फौज ने उनके नेतृत्व में चुनौतियों का सफलतापूर्वक मुकाबला किया। देश और सेना के प्रति उनके समर्पण को देखते हुए उनको भारतीय फौज के तीनों अंगों का सुप्रीम कमांडर सी.डी.एस. बनाया गया । पूरा देश सभी शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि देता है। उनकी शहादत और देशभक्ति हमें हमेशा प्रेरणा देती रहेगी। इस अवसर पर तेजपाल सिंह रोमी, जसवंत सिंह, हरमिन्दर सिंह टीटू, गुरशरण सिंह शान, परमजीत सिंह लाली नवलजीत सिंह, हरविन्दरपाल सिंह नीटा, कुलदीप सिंह सलूजा, रनजीत सिंह, तजिन्दर सिंह, इंदरजीत सिंह खालसा, पिन्की बग्गा सहित भारी संख्या में उपस्थित संगत नें गुरु महाराज के चरणों में  शहीदों की आत्मिक शन्ति के लिए अरदास की।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर