जूना अखाड़े ने उठाई राम मंदिर के तर्ज पर हनुमानगढ़ी के भव्यता की मांग


अयोध्या। वाराणसी के विश्वनाथ कॉरिडोर उद्घाटन में शामिल होने के लिए जा रहे जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी अयोध्या पहुंचे, जहां राम जन्मभूमि परिसर में रामलला के दर्शन के साथ मंदिर निर्माण के कार्यों को भी देखा तो वह इस दौरान राम मंदिर के साथ हनुमान मंदिर की भव्यता दिए जाने की भी मांग उठाई।

साथ ही उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अयोध्या विधानसभा सीट पर धार्मिक क्षेत्र से जुड़े जनप्रतिनिधि बनाये जाने की मांग भाजपा से मांग की।अयोध्या पहुंचे जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरी ने कहा कि अयोध्या में सदियों के बाद एक ऐसा अवसर आया है कि वास्तव में प्रभु श्री राम चक्रवर्ती सम्राट भी थे और इस विराट के स्वामी भी हैं उनका जैसा भव्य और दिव्य विशालतम मंदिर बनना चाहिए। आज उसी तरह मंदिर बन रहा है और प्रभु श्रीराम केवल एक समुदाय के नहीं है प्रभु समग्र सृष्टि के हैं राम का जो जीवन है उनका जो आदर्श है यह पूरे विश्व को अपनाना चाहिेए।वहीं कहा कि मैं एक आग्रह और करना चाहूंगा। कि भारत सरकार को प्रधानमंत्री को उत्तर प्रदेश सरकार योगी को कि जिस प्रकार से जिस भव्यता के साथ प्रभु श्री राम का मंदिर बनना चाहिए वह बन रहा है लेकिन उसी भव्यता के साथ श्री हनुमान जी का स्थान हनुमानगढ़ी उसका स्वरूप भी परिवर्तित होना चाहिए

उसका स्वरूप भी उसी भव्यता और दिव्यता के साथ बनना चाहिए हनुमान गढ़ी क्योंकि राम जी बिना हनुमान जी के शोभा नहीं होता है हनुमानगढ़ी का विकास होना चाहिए और उसी पर होना चाहिएइसके साथ ही उत्तर प्रदेश में चुनावों का दौरा रहा है इसका एक धार्मिक नगरी है यहां से धर्म का संदेश जाता है इसलिए अयोध्या में जो भी प्रतिनिधि हो व धार्मिक क्षेत्र से हो भारतीय जनता पार्टी से निवेदन करते हुए कहा कि जो धार्मिक और सामाजिक क्षेत्र से जुड़ा हो उसी को यहां प्रतिनिधि के तौर पर अवसर प्रदान करें।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर