राष्ट्रीय लोक अदालत का किया गया आयोजन


श्रावस्ती। सचिव, जिला विधिक सेवा, श्रावस्ती मृत्युन्जय श्रीवास्तव ने बताया है कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्रावस्ती के तत्वावधान में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन शनिवार  को न्यायालय परिसर भिनगा, श्रावस्ती एवं जिलाधिकारी एवं उनके अधीनस्थ न्यायालयों में जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्रावस्ती साकेत बिहारी दीपक की अध्यक्षता में किया गया।

न्यायालय प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय श्रावस्ती के पीठासीन अधिकारी प्रभाकर राव के द्वारा पारिवारिक वाद के 30  मामले सुलह-समझौता के आधार पर निर्णित किये गये।न्यायालय अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश श्रावस्ती के पीठासीन अधिकारी सुदामा प्रसाद द्वारा क्रिमिनत के 08 वाद निस्तारित कर 7500/- पर समझौता किया गया। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश ;एस0सी0/एस0टी0 एक्टद्ध, उमेश कुमार द्वितीय, श्रावस्ती, द्वारा क्रिमिनल के 25 वाद निस्तारित कर 1400/-वसूल किया गया।अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश ;पाक्शो, अत्याचार निवारण अधिनियमद्ध, परमेश्वर प्रसाद श्रावस्ती, द्वारा क्रिमिनल के 05 वाद निस्तारित कर 3000/-वसूल किया गया। न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रे्ट के पीठासीन अधिकारी शीतला प्रसाद द्वारा लघु अपराधिक के 1224 वाद निस्तारित कर रूपये 264820/- रूपये जुर्माना धनराशि अधिरोपित किया गया।न्यायालय सिविल जज, ग्राम न्यायालय इकौना, श्रावस्ती, बृजेन्द्र कुमार त्रिपाठी के द्वारा लघु आपराधिक के 86 मामले निस्तारित कर रूपये 22350/- जुर्माना किया गया।अपर सिविल जज, ;अवर खण्डद्ध प्रभात सिंह द्वारा लघु आपराधिक केे 144 वाद निस्तारण कर रूपया 14070/- जुर्माना किया गया। तथा सिविल के 16 वाद का निस्तारण किया गया।न्यायिक मजिस्ट्र्ेट, प्रफुल्ल उपाध्याय द्वारा 55 वाद निस्तारण कर रू 22100/- जुर्माना किया गया।

अपर सिविल जज,अवर खण्डद्ध शुभम द्विवेदी द्वारा लघु आपराधिक केे 101 वाद निस्तारण कर रूपया 18250/- जुर्माना किया गया। सिविल जज,अवर खण्डद्ध, ;त्वारित न्यायलयद्ध, असगर अली द्वारा लघु आपराधिक के 44 वाद निस्तारित कर 16300/-जुर्माना किया गया।कलेक्ट्र्ेट कार्यालय के विभिन्न राजस्व न्यायालयों द्वारा पेंडिंग केसो मे कुल 220 वाद निस्तारित कर 7,20,200/-रूपये पर समझौता किया गया। अन्य विभाग द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रार्थना पत्र एवं वाद निस्तारित किये गये जिनकी संख्या 2407 रही। राजस्व अधिकारी द्वारा 1185 रू0 जुर्माना वसूला गया। सेवा सम्बधित तथा सेवा निवृत्ति सम्बधित 2 वाद का निस्तारण किया। बिजली बिल से सम्बन्धित 69 वाद का निस्तारण कर 1,30,000 रूपये वसूले गये तथा प्री-लिटिगेशन वादो में स्थायी लोक अदालत श्याम लाल कोरी द्वारा 7 वाद का निस्तारण किया गया। कनज्यूमर फोरम के द्वारा 11 वाद निपटाये गये। बैंक के द्वारा प्री-लिटिगेशन के 224 वाद निस्तारित कर रूपया 2,55,84,0041/- के धनराशि पर समझौता किया गया। उक्त लोक अदालत में अधिवक्ता कर्मचारीगण वादकारी आदि उपस्थित रहे। इस दौरान कोविड-19 के गाईड लाईन का पालन किया गया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन